Home » इंडिया » Galwan: People's Liberation Army of China told unfortunate Galwan clash in meeting
 

Ladakh stand-off : चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी ने मीटिंग में गलवान झड़प को बताया दुर्भाग्यपूर्ण

कैच ब्यूरो | Updated on: 24 June 2020, 12:19 IST

Ladakh stand-off : चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) के अधिकारियों ने सोमवार को भारतीय सेना के प्रतिनिधिमंडल के साथ एक बैठक की. चीन की ओर से कोर कमांडरों स्तर की बैठक में कहा गया कि गलवान टकराव एक दुर्भाग्यपूर्ण घटना थी. द हिंदू की रिपोर्ट के अनुसार भारत और चीन ने लद्दाख में तीन तनावपूर्व जगहों पर अपनी पोस्टों से पीछे हटने पर सहमति व्यक्त की है, जहां भारतीय सेना और चीनी पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) में झड़प हो रही थी. ये तीन क्षेत्र गलवान, हॉट स्प्रिंग्स और लद्दाख में पैंगोंग त्सो (झील) के पास फिंगर एरिया हैं. 

इन तीन क्षेत्रों में अप्रैल-मई के बाद से दोनों देशों के सैनिकों ने तनाव की स्थिति थी. 15 जून को गलवान वैली की झड़प में 20 भारतीय सैनिक शहीद हो गए थे. रिपोर्ट के अनुसार एक अधिकारी ने कहा कि कोर के कमांडर स्तर की वार्ता का दूसरा दौर 22 जून को एलएसी के चीनी क्षेत्र मोल्डो में आयोजित किया गया, अभी तक इस वार्ता को अंतिम रूप नहीं दिया गया है. अधिकारी ने कहा कि डी-एस्केलेशन अभ्यास के हिस्से के रूप में सेना को पोस्ट से वापस बुलाने की प्रक्रिया शुरू की गई थी और प्रक्रिया पूरी होने के बाद ही एक औपचारिक बयान जारी किया जाएगा.


रिपोर्ट के अनुसार बैठक में गलवान घटना को उठाया गया  और चीन को मजबूत शब्दों में बताया गया कि यह स्वीकार्य नहीं है. एक आधिकारिक ने कहा कि गलवान क्षेत्र में कम से कम अभी कोई स्थायी ढांचा नहीं बनाया गया लेकिन चीनियों ने टेंट लगाए थे और स्टोन शेल्टर बना लिए थे. चीनी पक्ष ने भारतीय प्रतिनिधिमंडल के साथवार्ता में भारतीय मीडिया द्वारा गलावन घटना के आक्रामक कवरेज का मुद्दा भी भी उठाया.

जम्मू-कश्मीर में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी, लश्कर के चार आतंकी सहयोगी गिरफ्तार

कोर कमांडर वार्ता का पहला दौर 6 जून को आयोजित किया गया था, लेकिन 15 जून को डी-एस्केलेशन प्रक्रिया के दौरान समझौते का उल्लंघन किया गया था, जिसके परिणामस्वरूप 1975 के बाद पहली बार सीमा पर हिंसा में कम से कम 20 भारतीय सैनिक शहीद हो गए थे. अधिकारियों ने बताया कि सोमवार को लगभग 11 घंटे की बैठक सौहार्दपूर्ण, सकारात्मक और रचनात्मक माहौल में आयोजित की गई. मीडिया रिपोर्ट के अनुसर पूर्वी लद्दाख में चुशुल सेक्टर के सामने चीनी तरफ मोल्डो में बैठक आयोजित की गई थी.

गलवान घाटी : 11 घंटे की मीटिंग के बाद भारत और चीन के बीच सेनाएं पीछे हटाने पर सहमति बनी

First published: 24 June 2020, 12:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी