Home » इंडिया » Galwan Valley face-off: meeting of both armies again, how violent clashes started that day
 

Galwan Valley face-off: फिर हुई दोनों सेनाओं की मीटिंग, उस दिन कैसे शुरू हुई थी हिंसक झड़प ?

कैच ब्यूरो | Updated on: 18 June 2020, 14:22 IST

Galwan Valley face-off : 15 से 16 जून को गलवान क्षेत्र में हुई हिंसक झड़प से संबंधित मुद्दों को हल करने के लिए भारतीय और चीनी सैन्य अधिकारियों ने गुरुवार की सुबह एक बैठक आयोजित की. मेजर जनरल-स्तर के अधिकारियों ने पैट्रोल पॉइंट 14 में यह मुलाकात की, जहां सोमवार रात सात घंटे तक दोनों सेनाओं के बीच संघर्ष हुआ था. इस झड़प में भारत के 20 सैनिक शहीद हो गए थे. बताया जा रहा है कि चीन को भी भारी नुकसान हुआ है लेकिन वह अपने नुकसान आंकड़ा नहीं बता रहा है. हालांकि अमेरिकी मीडिया रिपोर्ट के अनुसार चीन के 35 से ज्यादा सैनिक मारे गए हैं.

ताजा मीटिंग दोनों देशों द्वारा सीमा पर तनावपूर्ण स्थिति को कम करने के प्रयासों का हिस्सा है. गुरुवार की बैठक सैन्य अधिकारियों के बीच सातवीं बैठक थी. क्योंकि पिछले महीने से वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर गतिरोध लगातार जारी है.


भारत-चीन हिंसा: पहले मिली थी शहादत की सूचना, जवान बोला- मैं जिंदा हूं, फिर खुशी में बदला माहौल

कैसे हुई झड़प

हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार ताजा झड़प 15 जून को शाम करीब 7 बजे शुरू हुई जब कर्नल संतोष बाबू के नेतृत्व में लगभग 50 सैनिकों का एक भारतीय सेना दस्ता, पेट्रोल पॉइंट 14 पर पहुंचा. कहा गया है कि दोनों पक्षों के बीच प्रोटोकॉल के तहत हथियारों से झड़प नहीं हुई. चीनी सैनिकों को 6 जून को दोनों पक्षों के वरिष्ठ कमांडरों द्वारा चर्चा की गई एक डी-एस्केलेशन योजना के तहत उस स्थान से पीछे हट जाना चाहिए था, लेकिन भारतीय दल ने चीनी सैनिकों को उल्लंघन करते हुए पाया, वह पीछे नहीं हटे और उनके टेंट वहीं मौजूद थे''.

जब कर्नल बाबू और उनकी टीम ने चीनी सैनिकों से इस जगह से पीछे हटने को कहा तो झड़प शुरू हो गई. एक रिपोर्ट के अनुसार एक अधिकारी ने कहा झड़प इसलिए बढ़ गई क्योंकि चीनी सैनिकों ने अपनी पोस्ट खाली करने से इनकार कर दिया. भारतीय सेना ने उनके टेंट उखाड़ दिए. भारतीय और चीनी अधिकारियों ने 5 मई से जारी तनाव को कम करने के लिए डी-एस्केलेशन रणनीति के रूप में नियमित रूप से बैठक की है.

एक और बड़ा कदम: चीनी पोर्टफोलियो निवेश को प्रतिबंधित कर सकता है भारत-: रिपोर्ट

इंडिया के 'बॉयकॉट चाइना' से घबराया चीन, पढ़िए सरकारी अख़बार ग्लोबल टाइम्स ने क्या लिखा

First published: 18 June 2020, 14:09 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी