Home » इंडिया » Gauri Lankesh Murder Case: SIT arrested K T Naveen Kumar a Hindu yuva sena Man from Karnataka
 

गौरी लंकेश हत्याकांड: SIT को मिली बड़ी कामयाबी, हिन्दू युवा सेना से जुड़ा शख़्स गिरफ्तार

कैच ब्यूरो | Updated on: 3 March 2018, 10:22 IST

वरिष्ठ पत्रकार और समाजसेवी गौरी लंकेश हत्याकांड में अदालत के आदेश के बाद केटी नवीन कुमार को SIT (स्पेशल इंवेस्टिगेशन टीम) की हिरासत में भेज दिया गया है. SIT काफी लंबे समय से गौरी लंकेश की हत्या के मामाले में पूछताछ के लिए नवीन कुमार के रिमांड की मांग कर रही थी.

18 फरवरी को सेंट्रल क्राइम ब्रांच के क्राइम विंग टीम ने केटी नवीन कुमार को बेंगलुरु के मैजेस्टिक बस स्टैंड से गिरफ्तार किया था. उसके पास से कुछ ज़िंदा कारतूस और 0.32 बोर का पिस्टल बरामद हुआ था. मैसूर के पास मण्डया का रहने वाला केटी सुनील कुमार पर अवैध असलहा बेचने का आरोप था.

पुलिस ने बताया कि कुमार को अवैध रूप से पिस्तौल की गोलियां रखने के आरोप में 19 फरवरी को गिरफ्तार किया गया था. उसके खिलाफ सशस्त्र अधिनियम के तहत एक मामला दर्ज किया गया था. अदालत ने उसे आज 8 दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया.

अवैध असलहों के केस में पुलिस हिरासत में जाने के बाद केटी नवीन कुमार के कुछ मित्रों ने उसके गौरी लंकेश की हत्या से जुड़े होने को लेकर स्वैच्छिक बयान दिए थे. एक सहायक सरकारी अभियोजक निर्मला रानी ने कोर्ट में नवीन कुमार को 8 दिनों की हिरासत में भेजने के लिए याचिका लगाई थी ताकि बड़े षणयंत्र और हत्याकांड में इस्तेमाल किए गए सामान से पर्दा उठ सके..

ये भी पढ़ें- मौत से पहले गौरी लंकेश का आखिरी Tweet, सरकार पर उठा रहें हैं सवाल

इस संदिग्ध को सीसीटीवी फुटेज के आधार पर खोजा गया. जांच में पता चला कि कुमार कट्टरपंथी हिंदू संगठन हिन्दू युवा सेना से जुड़ा था. उसके संबंध सनातन संस्था संगठन और उससे संबंधित हिन्दू जनजाग्रति समिति से भी मिले.

क्या है पूरा मामला

गौरी लंकेश, कन्नड़ कवि और पत्रकार पी लंकेश की सबसे बड़ी बेटी थीं. वह वीकली मैग्जीन 'लंकेश पत्रिका' की एडिटर थीं. 5 सितंबर को लंकेश की उनके घर के बाहर गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. लंकेश की हत्या के बाद राज्य सरकार ने मामले की जांच के लिए विशेष जांच दल (SIT) का गठन किया था, जिसने हत्यारों का पता लगाने के लिए जनता से जानकारी मांगी थी.

ये भी पढ़ें-  गौरी लंकेश की हत्या पर बोले भाजपा नेता, 'RSS के खिलाफ नहीं लिखती तो जीवित होती'

हमलावरों ने उन पर बेहद नजदीक से 7 राउंड फायरिंग की थी. मौके पर ही उनकी मौत हो गई थी. उनको पहले भी जान से मारने की धमकियां मिल चुकी थीं. पड़ोसियों के मुताबिक, गौरी लंकेश की उम्र 55 साल थी. हमले के वक्त गौरी अपने घर का मेन गेट खोल रही थीं. उनके सिर, गर्दन और सीने पर 3 गोलियां लगीं, जबकि दीवार पर 4 गोलियों के निशान मिले.

First published: 3 March 2018, 10:19 IST
 
अगली कहानी