Home » इंडिया » Gauri Lankesh murder case: SIT submits 650 page charge sheet in court
 

गौरी लंकेश हत्याकांडः SIT ने दाखिल की चार्जशीट, हिंदूवादी संगठनों से जुड़े हैं आरोपियों के तार

कैच ब्यूरो | Updated on: 30 May 2018, 13:06 IST

पत्रकार गौरी लंकेश हत्याकांड की जांच कर रही विशेष जांच दल (एसआईटी) ने बुधवार को मेट्रोपालिटन कोर्ट में 650 पेज की चार्जशीट दाखिल की है. एसआईटी ने 131 लोगों के बयान शामिल किए हैं, जिसमें फोरेंसिक लैब (FSL) अधिकारियों और मुख्य आरोपी केटी नवीन बयान भी शा मिल किए गए हैं. इससे पहले एसआईटी ने इस मामले में चार अन्य आरोपियों को गिरफ्तार किया है.

आपको बता दें कि पिछले साल 5 सितम्बर को पत्रकार गौरी लंकेश की बैंगलुरु में राज राजेश्वरी नगर में उनके घर के बाहर कुछ अज्ञात लोगों ने गोली मार कर हत्या कर दी थी. इस मामले ने काफी तूल पकड़ा था. इसके बाद इस हत्याकांड की जांच के लिए सरकार ने एसआईटी का गठन कर दिया था.

एएनआई की खबर के मुताबिक, एसआईटी ने गौरी लंकेश हत्याकांड में चार्जशीट दाखिल कर दी है. एसआईटी ने 650 पन्नों की चार्जशीट दाखिल की है. एसआईटी ने इसमें 131 लोगों के बयान शामिल किए हैं., जिसमें  फोरेंसिक लैब के अधिकारियों और आरोपी केटी नवीन के बयान भी शामिल हैं.   

इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक, एसआईटी ने गौरी लंकेश हत्याकांड को सुलझाने के करीब पहुंच गए हैं. एसआईटी ने इस मामले में चार अन्य आरोपियों को भी गिफ्तार किया है. ये चारों आरोपी सनातन संस्था से जुड़े हुए हैं. लेखक के एस भगवान को मारने की साजिश के पीछे भी इनका ही हाथ बताया जा रहा है. ये चारों आरोपी सनातन संस्था और इसकी ही एक और शाखा हिंदू जनजागृति समिति से जुड़े हैं. 

गिरफ्तार किए गए चारों आरोपियों के नाम अमोल काले कार्यकर्ता हिंदू जनजागृति समिति महाराष्ट्र, अमित देगवेकर कार्यकर्ता सनातन संस्था, मनोहर इडावे निवासी कर्नाटक और सुजीत कुमार कार्यकर्ता हिंदू जनजागृति समिति और सनातन संस्था,  ये सभी कट्टरपंथी संगठनों के साथ जुड़े हैं.  

एसआईटी ने इनको पिछले हफ्ते गिरफ्तार किया था. एसआईटी का मानना है कि इन चारों आरोपियों के संबंध केटी नवीन से रहे हैं. नवीन ने इन चारों के साथ साल 2017 में हिंदू जनजागृति समिति और सनातन संस्था की ओर से कई बैठकें की थी. इसके बाद 2 मार्च 2018 को नवीन को गौरी लंकेश हत्याकांड में एसआईटी की टीम के गिरफ्तार कर लिया था.

First published: 30 May 2018, 13:06 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी