Home » इंडिया » gauri lankesh murder: SIT arrested K T kumar accused of illeagel weapon business connected to hindu yuva vahini
 

गौरी लंकेश हत्याकांड: हिन्दू युवा वाहिनी से जुड़े शख्स को SIT ने किया गिरफ्तार

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 March 2018, 8:44 IST

कर्नाटक पुलिस ने गौरी लंकेश हत्याकांड में पहली गिरफ़्तारी की है. पांच महीने बाद पुलिस को बड़ी सफलता हाथ लगी है.पुलिस ने के टी कुमार को हत्या में शामिल होने के संदेह में गिरफ्तार कर लिया है. 2 मार्च को अवैध हथियारों की तस्करी के आरोपी रहे के टी कुमार को पुलिस ने पूछताछ के मामले में हिरासत में लिया था. की टी कुमार हिन्दू युवा वाहिनी से जुड़ा सदस्य है.

मामले के जांच अधिकारी पुलिस उपायुक्त एम एन अनुचेठ ने कहा, ‘‘ उसे( नवीन कुमार को) गिरफ्तार किया गया है. वह( इस मामले में) एक आरोपी है.’’ पुलिस को संदेह है कि कुमार किसी छोटे-मोटे दक्षिणपंथी संगठन से जुड़ा है. शुरू में उसे 19 फरवरी को अवैध रूप से पांच कारतूस रखने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था. तब उसके विरुद्ध हथियार कानून के तहत मामला दर्ज किया गया था और अदालत द्वारा न्यायिक हिरासत में भेजा गया था.

ये भी पढ़ें-  गौरी लंकेश की हत्या पर बोले भाजपा नेता, 'RSS के खिलाफ नहीं लिखती तो जीवित होती'

 

पूछताछ के बाद गौरी लंकेश हत्याकांड में उसका हाथ होने के संदेह में एसआईटी की आठ दिनों की हिरासत में भेजा गया. एसआईटी इस हत्याकांड की जांच कर रही है. महज दो दिन पहले गृहमंत्री रामलिंगा रेड्डी ने कहा था कि शीघ्र ही एसआईटी यह स्पष्ट करेगी कि पुलिस ने इस मामले में सही व्यक्ति को पकड़ा है या नहीं. वैसे कुमार के परिवार का कहना है कि वह निर्दोष है तथा उसका इस हत्याकांड से कोई लेना-देना नहीं है.

केटी नवीन कुमार पर आरोप है कि उसने न सिर्फ गौरी लंकेश के हत्यारों को हथियार दिए बल्कि ट्रेनिंग भी दी. कहा यह भी जा रहा है कि सीसीटीवी में जो शख्स बाइक पर दिख रहा है इसका हुलिया केटी नवीन कुमार से काफी मिलता है. हालांकि अब तक एसआईटी ने इन खबरों की आधिकारिक तौर पर पुष्टि नहीं की है.

ये भी पढ़ें- मौत से पहले गौरी लंकेश का आखिरी Tweet, सरकार पर उठा रहें हैं सवाल

क्या है पूरा मामला

गौरी लंकेश, कन्नड़ कवि और पत्रकार पी लंकेश की सबसे बड़ी बेटी थीं. वह वीकली मैग्जीन 'लंकेश पत्रिका' की एडिटर थीं. 5 सितंबर को लंकेश की उनके घर के बाहर गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. लंकेश की हत्या के बाद राज्य सरकार ने मामले की जांच के लिए विशेष जांच दल (SIT) का गठन किया था, जिसने हत्यारों का पता लगाने के लिए जनता से जानकारी मांगी थी.

First published: 10 March 2018, 8:41 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी