Home » इंडिया » Get a MP or MLA to run University, says angry Allahabad University VC to Smriti Irani
 

इलाहाबाद: स्मृति ईरानी पर भड़के कुलपति, कहा- बीजेपी एमपी को ही बना दें वीसी

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 February 2017, 1:49 IST

केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी को लेकर नया विवाद सामने आया है. इलाहाबाद यूनीवर्सिटी के वाइस चांसलर प्रोफेसर रतन लाल हंगलू ने स्मृति ईरानी पर कामकाज में दखल देने का आरोप लगाया है.

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के कथित दखल से आहत कुलपति हंगलू ने इस्तीफा देने की चेतावनी दी है. हंगलू का आरोप है कि जिस तरह से कामकाज में दखल दिया जा रहा है उससे यूनीवर्सिटी पीछे जा रही है.

यही नहीं रतन लाल हंगलू ने कहा है कि अगर इसी तरह काम में दखल देना है, तो उन्हें हटाकर बीजेपी के किसी सांसद या विधायक को वीसी बना देना चाहिए.

वहीं संसद में भी इलाहाबाद यूनीवर्सिटी का मामला उठा. राज्यसभा में मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने सफाई देते हुए कहा कि उनका मंत्रालय विश्वविद्यालय के काम में दखल नहीं देता.

पढ़ें: मायावती ने स्मृति को उनके ही व्यूह में फंसाया, पूछा क्या अपना शीश कटाएंगी?

स्मृति ईरानी ने समाजवादी पार्टी के महासचिव रामगोपाल यादव के आरोपों पर कहा कि इलाहाबाद यूनीवर्सिटी में समाजवादी पार्टी के नेता वीसी को धमकी दे रहे हैं, जिस पर सपा के सांसदों ने हंगामा मचाया.  

ऑनलाइन प्रवेश परीक्षा पर विवाद

दरअसल, चार महीने पहले ही इलाहाबाद सेंट्रल यूनीवर्सिटी के वीसी बने प्रोफेसर रतन लाल हंगलू ने कामकाज संभालते ही नये सेशन से सभी प्रवेश परीक्षाएं सिर्फ ऑनलाइन कराए जाने का एलान किया था.

लेकिन छात्रों के विरोध के चलते वीसी ने ग्रेजुएशन क्लासेज में दाखिले के लिए ऑनलाइन के साथ ही ऑफलाइन परीक्षा कराए जाने का भी विकल्प दे दिया था.

यूनीवर्सिटी में दाखिले की प्रक्रिया शुरू होते ही छात्रों ने इस बार की सभी प्रवेश परीक्षाओं में ऑफलाइन का विकल्प दिए जाने की मांग को लेकर प्रदर्शन शुरू कर दिया था. 

फैसले का पहले छात्र संगठन विरोध कर रहे थे, लेकिन बाद में इसके विरोध में बीजेपी, कांग्रेस और समाजवादी पार्टी के नेता भी उतर आए.

पढ़ें: स्मृति ईरानी: मेरा सिर कलम करके ले जाने की हिम्मत है तो ले लेकर आओ 

वीसी हंगलू का आरोप है कि समाजवादी पार्टी के नेताओं की ओर से मारने की धमकी का दबाव भी बनाया गया. कुलपति का ये भी आरोप है कि छात्रनेता एडमिशन फॉर्म बेचकर काली कमाई करते हैं, इसी पर नकेल कसने के लिए ऑनलाइन फॉर्म की व्यवस्था की गई थी. 

बीजेपी सांसद ने स्मृति से की शिकायत

कौशाम्बी के बीजेपी सांसद विनोद सोनकर ने नौ मई को स्मृति ईरानी से मिलकर वीसी की शिकायत की थी. बीजेपी सांसद की शिकायत के बाद स्मृति ईरानी ने मामले में दखल दिया और वीसी के फैसले को पलटते हुए सभी प्रवेश परीक्षाओं में ऑफलाइन का भी विकल्प दे दिया. 

मंत्री स्मृति ईरानी की दखलंदाजी के बाद अपना फैसला पलटे जाने से वीसी रतन लाल हंगलू नाराज हैं. ऐसे में वो खुलकर केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी के खिलाफ बयानबाजी कर रहे हैं.

पढ़ें: स्मृति ईरानी के महिषासुर बयान पर फंसे बीजेपी सांसद उदित राज

First published: 11 May 2016, 10:33 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी