Home » इंडिया » Get high security number plate in your bike soon, otherwise you will have to fill heavy challan
 

अपनी गाड़ी में जल्द लगवा लें High Security नंबर प्लेट, चोरी करने से पहले 100 बार सोचेगा चोर

कैच ब्यूरो | Updated on: 16 January 2020, 11:11 IST

High Security Number Plate: अगर आपके पास दो पहिया या चार पहिया गाड़ी है तो ये खबर आपके लिए बहुत ही जरूरी है. आपको अपनी गाड़ी में तुरंत ही हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट लगवाने होंगे, अन्यथा आपका भारी-भरकम चालान कट सकता है. पहले ये नियम सिर्फ देश की राजधानी दिल्ली में ही लागू था, लेकिन अब दिल्ली से सटे गाजियाबाद (Ghaziabad) में भी यह नियम लागू होने वाला है.

गाजियाबाद में पुराने वाहनों के लिए हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट (High Security Number Plate) लगाकर चलना अनिवार्य हाेने जा रहा है. यह सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) के आदेशानुसार हो रहा है. गाजियाबाद परिवहन विभाग (Transport Department) ने इस पर कार्य करना शुरू कर दिया है.

www.bookmyhsrp.com पर जाकर करें रजिस्ट्रेशन

गाजियाबाद परिवहन विभाग की तरफ से एक पोर्टल बनाया गया है. इस पोर्टल के माध्यम से हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट लगाने का कार्य किया जाएगा. विभाग ने www.bookmyhsrp.com नाम का पोर्टल तैयार किया है. वाहन चालक को www.bookmyhsrp.com पर जाकर अपना रजिस्ट्रेशन करना होगा.

इसके लिए इस वेबसाइट पर जाकर आपको उत्तर प्रदेश चुनना होगा. फिर जिस कंपनी का आपका वाहन है उस कंपनी को क्लिक करना होगा. इस पर नजदीकी डीलर्स के नाम नजर आएंगे. फिर आपको वहां जाकर अपने वाहन की डिटेल भरनी होगी. साथ ही हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेेट की फीस भी आपको ऑनलाइन भरनी होगी.

ये प्रक्रिया पूरी करने के बाद आपको फाॅर्म में भरे गए डीलर के पास जाना होगा. वह डीलर आपकी गाड़ी पर हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट लगा देगा. दिल्ली में यह नियम साल 2012 से ही लागू है,  लेकिन अब उत्तर प्रदेश में भी हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट के साथ गाड़ियां दिखाई देंगी.

गाजियाबाद एआरटीओ (ARTO) प्रशासन विश्वजीत प्रताप सिंह ने इस संबंध में बताया कि सर्वोच्च न्यायालय के आदेश पर उत्तर प्रदेश में सभी वाहनों पर हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट लगाकर चलना अनिवार्य होगा. इससे वाहन पूरी तरह से सुरक्षित होंगे.

आपकी गाड़ी होगी पूरी तरह सुरक्षित

अगर आपके वाहन चोरी भी हो गए तो हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट से इसे जल्द से जल्द पहचाना जा सकेगा. कुछ कंपनियां इन्हें बनाने के लिए अधिकृत की गई हैं. हर वाहन निर्माता कंपनी ने इन कंपनियों में से एक को चुन रखा है.

 

First published: 16 January 2020, 11:11 IST
 
अगली कहानी