Home » इंडिया » Ghaziabad:fire in bharat chemical factory, traffic jam on NH-24
 

गाजि‍याबाद: भारत केमि‍कल फैक्ट्री में आग, एनएच-24 पर लंबा जाम

कैच ब्यूरो | Updated on: 27 April 2016, 17:07 IST

गाजि‍याबाद में भारत केमि‍कल फैक्ट्री में बुधवार को भीषण आग लग गई. आग की खबर मिलने के बाद मौके पर दमकल की एक दर्जन गाड़ि‍यां पहुंच गई, लेकिन तब तक आग विकराल रूप ले चुकी थी.

आग पर जल्द काबू पाने के लिए वैशाली और साहिबाबाद से भी दमकल की गाड़ियों को बुलाया गया. लेकिन तीन घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद भी आग बुझाई नहीं जा सकी.

एनएच-24 पर लगा जाम


आग ने आस-पास की दो फैक्ट्रि‍यों को भी चपेट में ले लि‍या. इसमें आरके गेयर फैक्ट्री भी शामि‍ल है. वहीं हादसे के बाद अफरा-तफरी मच गई.

आग की वजह से एनएच-24 पर लंबा जाम भी लग गया. इस बीच पुलिस ने इलाके को खाली करवा दिया है, जिससे किसी तरह के जान माल का नुकसान ना हो.

आग से करोड़ों रुपये के नुकसान का अनुमान है. पुलिस का कहना है कि शॉर्ट सर्किट की वजह से आग लगने की आशंका है, लेकिन जांच के बाद ही सही तस्वीर साफ हो सकेगी.

पढ़ें:दिल्ली: नेचुरल हिस्ट्री म्यूजियम में भीषण आग, अहम दस्तावेज जलकर खाक

कई जगह भीषण अग्निकांड


देश में आए दिन कई जगहों पर आग लगने की खबरें मिल रही हैं. पिछले दो दिन के अंदर ऐसे दो बड़े मामले सामने आए हैं.

कुछ दिन पहले ही दिल्ली के मंडी हाउस स्थित फिक्की ऑडिटोरियम भवन परिसर में म्यूजियम ऑफ नेचुरल हिस्ट्री की इमारत में भीषण आग लग गई थीं. दमकल विभाग के पांच कर्मचारी भी इस दौरान जख्मी हो गए थे. 

मंगलवार को ही आंध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम में बायोमैक्स फ्यूल लिमिटेड बायोडीजल प्लांट में भीषण आग लगने की घटना भी हुई.

बिहार में एडवाइजरी जारी


बिहार में आए दिन होने वाली आग की घटनाओं को देखते हुए आपदा प्रबंधन की ओर से एडवाइजरी जारी की गई है. जिसके तहत ग्रामीण इलाके में अगर सुबह नौ से शाम छह बजे के बीच खाना बनाया और आग लगी तो इसके लिए दोषी को दो साल तक की सजा हो सकती है. 

पढ़ें:विशाखापट्टनम: बायोडीजल प्लांट में हादसा, 8 टैंक आग की चपेट में

गांवों में ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए विभाग ने तीन एडवाइजरी जारी की थी. इसमें सुबह नौ से पहले और शाम छह बजे के बाद खाना बनाने को कहा गया है. 

इसी तरह पूजा-पाठ के लिए हवन सुबह नौ बजे के पहले करने और गेहूं काटने के बाद बचे डंठल को नहीं जलाने की अपील की गई है.

विभाग ने कहा है कि इस निर्देश का सख्ती से पालन न होने पर दोषी के खिलाफ राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 के तहत कानूनी कार्रवाई की जाएगी. इसमें एक से लेकर दो साल तक की सजा या जुर्माने का प्रावधान है.

First published: 27 April 2016, 17:07 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी