Home » इंडिया » GHMC Election Results: TRS historic win, TDP, BJP, Congress bite the dust
 

टीआरएस की आंधी में कांग्रेस, बीजेपी और टीडीपी का सूपड़ा साफ

कैच ब्यूरो | Updated on: 6 February 2016, 19:11 IST

तेलंगाना में तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) ने शुक्रवार को ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम चुनाव में 100 अधिक सीटों पर विजय हासिल की है.

ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम में कुल 150 सीटें हैं. टीआरएस की इस प्रचंड लहर में जहां मुख्य विपक्षी पार्टी कांग्रेस का सूपड़ा साफ हो गया, वहीं चंद्रबाबू नायडू की तेलुगू देशम पार्टी और भाजपा का गठबंधन भी सिमट कर रह गया है.

विभिन्न राजनीतिक दलों ने इन चुनावों में अपनी जीत पक्की करने और मतदाताओं को लुभाने के लिए दो बेडरूम के फ्लैट देने की भी घोषणा की थी. 

समाचार एजेंसी आईएनएस के मुताबिक इतनी बड़ी जीत से यह साफ हो गया है कि ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम का अगला मेयर टीआरएस का होगा.

एजेंसी के मुताबिक असदउद्दीन ओवैसी की पार्टी मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुसलमीन (एमआईएम) ने हैदराबाद के पुराने शहर का अपना गढ़ बचा लिया है. एमआईएम ने कुल 41 सीटों पर जीत दर्ज की है. लेकिन टीआरएस की शानदार सफलता के कारण ओवैसी की पार्टी एमआईएम भूमिका उतनी प्रभावशाली नहीं रहेगी.

इस चुनाव में जहां भाजपा ने तीन सीटें जीती वहीं उसकी सहयोगी तेलुगू देशम पार्टी ने मात्र एक सीट जीत दर्ज की है. तेलंगाना में मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस भी मात्र दो सीटों से संतोष करना पड़ा है.

टीआरएस ने इस प्रदर्शन से हैदराबाद में अपनी प्रासंगिकता साबित कर दी है. हैदराबाद इस समय तेलंगाना और आंध्र प्रदेश की संयुक्त राजधानी है.

टीआएस ने पृथक तेलंगाना राज्य के आंदोलन का नेतृत्व किया था और आंध्र से अलग होने के बाद राज्य के प्रथम चुनाव में टीआरएस ने जीत दर्ज करके पहली सरकार बनाई है, लेकिन पार्टी ने ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम के तहत आने वाली 24 विधानसभा सीटों में से मात्र 2 सीटों को ही अपने खाते में दर्ज करा पाई.

अलग तेलंगाना राज्य बनने के बाद ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम का यह पहला चुनाव था. इसके पहले ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम में टीआरएस का कोई प्रतिनिधि नहीं था, क्योंकि साल 2009 के निगम चुनाव में पार्टी ने भाग नहीं लिया था. जबकि कांग्रेस और एमआईएम साल 2009 के चुनाव में जीत के बाद संयुक्त रूप से निगम की सत्ता संभाली थीं.

प्रथम ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम में कांग्रेस के पास 52 सीटें, एमआईएम के पास 43 सीटें, तेदेपा के पास 45 सीटें और भाजपा के पास 5 सीटें थीं.

First published: 6 February 2016, 19:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी