Home » इंडिया » Gir Somnath DM: Dalit Asmita Rally is a flop show
 

जिलाधिकारीः ऊना पहुंची दलित अस्मिता रैली एक फ्लॉप शो

अभिषेक श्रीवास्तव | Updated on: 14 August 2016, 19:29 IST

गुजरात में अहमदाबाद से निकली दलित अस्मिता रैली रविवार को दोपहर तीन बजे ऊना पहुंची. लेकिन ऊना पहुंचने से पहले सामतेर गांव के दलितों द्वारा निकाली गई बाइक रैली पर दरबार जाति के लोगों ने हमला कर दिया. उनके पथराव में मीडियाकर्मियों समेत 50 लोग घायल हो गए. वहीं, गीर सोमनाथ के जिलाधिकारी ने यात्रा को फ्लॉप शो बताया है.

दलितों पर हो रहे अत्याचार और हिंसा के विरोध में गुजरात के अहमदाबाद से दलित अस्मिता रैली निकाली गई है. शनिवार को सामतेर गांव में दलितों द्वारा इस यात्रा के समर्थन में बाइक रैली का आयोजन किया गया. बताया जा रहा है कि बाइक रैली के लिए प्रशासन से अनुमति न मिलने के बावजूद इसे आयोजित किया गया.

इस दौरान दलितों पर पूर्व में हमला करने वाले दरबार जाति के लोगों द्वारा शनिवार को फिर से इस बाइक रैली पर हमला बोल दिया गया. हमलावरों ने लाठी-डंडों के अलावा पथराव किया जिसमें कई मीडियाकर्मियों को भी चोटें आईं. जबकि स्थानीय लोगों समेत रैली में शामिल करीब 50 लोग घायल हो गए. 

गुजरात की दलित अस्मिता यात्रा को मिल रहा वैश्विक समर्थन

जानकारी मिलते ही आनन-फानन में प्रशासन ने गांव में पुलिसबल तैनात कर दिया और रात में वहां के कलेक्टर खुद गांव में पहुंच गए और शांति बनाए रखने की अपील की. 

सांस्कृतिक कार्यक्रम से पहले रविवार शाम को ऊना पहुंची यात्रा में मौजूद लोग.

वहीं, इस घटना के बाद दरबार जाति के 35 परिवारों के लोगों ने रविवार को हाईवे पर दलित अस्मिता यात्रा को ऊना पहुंचने से रोकने के लिए हाईवे पर धरना देना शुरू कर दिया. इन परिवारों ने हाईवे पर धरना देते हुए यातायात अवरुद्ध कर दिया. 

पुलिस के समझाने पर भी धरना देने वाले नहीं मानें. इस दौरान प्रशासन ने यात्रा को वैकल्पिक मार्ग से ऊना पहुंचाया. 

क्या कहती है गुजरात में दलित की पीट-पीटकर की गई हत्या

इस बाबत गीर सोमनाथ के जिलाधिकारी अजय कुमार ने कहा, "कई कंपनी अर्धसैनिकबल और पुलिस सुरक्षाबल के बीच हम वैकल्पिक रास्ते से यात्रा को ऊना ले आए हैं. यात्रा के आयोजकों द्वारा हमसे इसमें 80 हजार लोगों के जुटने की अनुमति मांगी गई थी. लेकिन यात्रा में करीब 40 लोग ही आए हैं. रैली में शामिल लोगों से तीन गुना ज्यादा पुलिस लगी हुई है. यह रैली फ्लॉप शो है."

अब सोमवार 15 अगस्त को यात्रा के समापन अवसर पर ऊना में एक विशाल सभा आयोजित किए जाने की उम्मीद जताई जा रही है. हालांकि स्थानीय लोगों द्वारा आशंका जताई जा रही है कि दरबार जाति के लोग इस दौरान हिंसा कर सकते हैं.

वहीं, रविवार को शाम को इस यात्रा में एक हजार से ज्यादा लोग मौजूद थे और सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया. अब सोमवार को ऊना के एचडी शाह स्कूल में ध्वजारोहण कर स्वतंत्रता दिवस मना कर यात्रा का समापन होगा.

First published: 14 August 2016, 19:29 IST
 
अभिषेक श्रीवास्तव @abhishekgroo

स्‍वतंत्र पत्रकार हैं. लंबे समय से देशभर में चल रही ज़मीन की लड़ाइयों पर करीबी निगाह रखे हुए हैं. दस साल तक कई मीडिया प्रतिष्‍ठानों में नौकरी करने के बाद बीते चार साल से संकटग्रस्‍तइलाकों से स्‍वतंत्र फील्‍डरिपोर्टिंग कर रहे हैं.

पिछली कहानी
अगली कहानी