Home » इंडिया » Goa CM Manohar parrikar says army should have take rahul gandhi with them for surgical strike
 

सर्जिकल स्ट्राइक मामले में मनोहर पर्रिकर का कांग्रेस पर तंज- सेना को राहुल गांधी को साथ ले जाना चाहिए था

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 July 2018, 8:41 IST

सर्जिकल स्ट्राइक को लेकर कांग्रेस के अविश्वास पर गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर ने कांग्रेस पर निशाना साधा है. पूर्व रक्षामंत्री ने तंज करते हुए कांग्रेस पर अविश्वास और नकारात्मकता फैलाने का आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि कांग्रेस जो कि सर्जिकल स्ट्राइक को लेकर इतने सवाल उठा रही है और उसके खिलाफ इतनी नकारात्मकता फैला रही है ये सही नहीं है.

कांग्रेस को सर्जिकल स्ट्राइक की सत्यता पर भरोसा तभी होता जब सेना इस मिशन पर अपने साथ राहुल गांधी को ले जाती. गौरतलब है कि आने वाले लोकसभा चुनावों 2019 के लिए तैयारियां जोरों पर हैं. चुनावी तैयारियों के चलते पर्रिकर एक कार्यकर्ताओं की बैठक में मजूद थे, जहां उन्होंने कहा, "मैं सर्जिकल स्ट्राइक पर राजनीतिक तरीके से नहीं बोल रहा हूं. विपक्षी पार्टियां क्या दावा करती हैं. उन्होंने स्ट्राइक नहीं किया था. इनकी नकारात्मकता को देखिए. क्या मुझे आपको (विपक्षी) साथ ले जाना चाहिए था. मुझे सेना से कहना चाहिए था कि राहुल गांधी को साथ ले जाएं और सर्जिकल स्ट्राइक को अंजाम दें."

ये भी पढ़ें- मोदी सरकार पर अरूण शौरी का बड़ा हमला, सर्जिकल स्ट्राइक को बताया 'फर्जिकल स्ट्राइक'

पर्रिकर ने कहा, "सर्जिकल स्ट्राइक के बारे में सबसे बड़ी बात गोपनीयता है. सिर्फ हम चार जानते थे. प्रधानमंत्री, मैं, सेना प्रमुख और सैन्य संचालन महानिदेशक. हम चारों दिल्ली में थे और कोर कमांडर व सेना के कामांडर व जिन्होंने इसे क्रियान्वित किया वे श्रीनगर में थे."

लोकसभा चुनावों के मद्देनजर पूर्व रक्षामंत्री ने पार्टी कार्यकर्ताओं से जनता के साथ मिल कर सकारात्मक माहौल बनाने के लिए कहा. गौरतलब है कि बीमारी के चलते पर्रिकर अमेरिका में थे. अमेरिका से लौटने के बाद ये उनकी पार्टी कार्यकर्ताओं से पहली मीटिंग थी.

ये भी पढ़ें- सर्जिकल स्ट्राइक प्लान करने वाले अफसर का खुलासा- फैसला पूरा तरह राजनीतिक नेतृत्व का था

इस बैठक में पार्रिकर कार्यकर्त्यों को सम्बोधित करते वक़्त भावुक हो उठे. उन्होंने कहा कि जब में सम्बोधन करने के लिए मंच पर आया तो मेरी आखें नम थी. बीमारी के कारण में पिछले 4 महीने से पार्टी के लोगों से मिल नहीं पाया हूं. उन्होंने आगे कहा कि वो लौटने पर चाहते हैं कि कुछ गांवों का दौरा करें और वहां के लोपजों से मुलाक़ात करें.

First published: 17 July 2018, 7:54 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी