Home » इंडिया » goa pramod sawant new chief minister bjp congress government nitin gadkari
 

पर्रिकर के निधन के बाद अब प्रमोद सावंत संभालेंगे गोवा की कमान, आधी रात को ली मुख्यमंत्री पद की शपथ

कैच ब्यूरो | Updated on: 19 March 2019, 8:35 IST

गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर के निधन के बाद भारतीय जनता पार्टी के युवा नेता प्रमोदी सावंत को गोवा का मुख्यमंत्री बनाया गया. रात करीब दो बजे प्रमोद सावंत ने गोवा के मुख्यमंत्री पद की शपथ ग्रहण की. मनोहर पर्रिकर के निधन के बाद बीजेपी के सामने ये सबसे बड़ा चिंता का विषय का की आखिर गोवा का सीएम किसे बनाया जाए. पर्रिकर के बाद से पार्टी अध्यक्ष अमित और नितिन गडकरी ने कई बैठकें की. काफी मंथन के बाद प्रमोद सावंत को गोवा का मुख्यमंत्री बनाया गया.

प्रमोद सावंत के साथ दो उप मुख्यमंत्री ने भी पद की गोपनीयता की शपथ ग्रहण की. MGP के सुदिन धवलिकर और गोवा फॉरवर्ड पार्टी (GFP) के विजय सरदेसाई गोवा के नए डिप्टी सीएम बनाए गए हैं. इसके साथ ही 9 विधायकों ने भी मंत्री पद की शपथ ली. प्रमोद सावंत गोवा के मुख्यमंत्री पर्रिकर के काफी करीबी माने जाते हैं. प्रमोद सावंत (Pramod Sawant) वर्तमान में गोवा विधानसभा के अध्यक्ष भी थे.

मालूम हो कि लंबे समय से गंभीर बीमारी से जूझ रहे गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर का रविवार की शाम को निधन हो गया. मनोहर पर्रिकर गोवा में गठबंधन सरकार का नेतृत्व कर रहे थे, जिसमें बीजेपी के साथ गोवा फॉरवर्ड पार्टी, एमजीपी और निर्दलीय शामिल थे. मनोहर पर्रिकर के निधन से पहले ही कांग्रेस ने राज्य सरकार में सरकार बनाने का दावा कर दिया था, जिसके लिए कांग्रेसी विधायक राज्यपाल से भी मिले थे. कांग्रेस सबसे बड़ी पार्टी होने के नाते गोवा में सरकार बनाने का दावा कर रहे थे.

मनोहर पर्रिकर की अनोखी दास्तान- भूख से तड़प रहे थे IIT बॉम्बे के हॉस्टल के लोग, इसके बाद..

मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर के निधन के बाद गोवा की राजनीति में काफी घमासान हुआ. बीजेपी द्वारा काफी मंथन के बाद प्रमोद सावंत को गोवा का नया सीएम बनाया गया. प्रमोद सावंत के नाम पर शुरू में सहयोगी दल तैयार नहीं थे. उन्होंने जबरदस्त सौदेबाजी की.

मुख्यमंत्री पद का पदभार संभालने के बाद प्रमोद सावंत ने कहा, "पार्टी ने मुझे जो जिम्मेदारी दी है, उसे निभाने की मेरी पूरी कोशिश रहेगी. मैं जो भी कुछ हूं मनोहर पर्रिकर की वजह से ही हूं." उन्होंने कहा, "मेरी जिम्मेदारी है कि सहयोगी दलों को साथ लेकर आगे बढ़ूं और अधूरे कार्यों को पूरा करूं. इसके लिए हरसंभव प्रयास करूंगा."

अंतिम यात्रा पर निकले पर्रिकर, लाखों नम आंखों ने दी अंतिम विदाई

First published: 19 March 2019, 8:35 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी