Home » इंडिया » Good news for diabetic patients, CSIR introduced Rs. 5 ayurvedic drug
 

मधुमेह रोगियों के लिए खुशखबरी, पांच रुपये की आयुर्वेदिक दवा

कैच ब्यूरो | Updated on: 28 June 2016, 19:48 IST

मधुमेह रोगियों के लिए खुशखबरी है. द काउंसिल फॉर साइंटिफिक एंड इंडस्ट्रियल रिसर्च (सीएसआईआर) ने सोमवार को मधुमेह से लड़ने वाली आयुर्वेदिक दवा बीजीआर-34 को लॉन्च किया.

समाचार एजेंसी आईएएनएस के मुताबिक टाइप टू डायबिटीज से लड़ने के लिए बनाई गई बीजीआर-34 को लखनऊ स्थित नेशनल बॉटैनिकल रिसर्च इंस्टीट्यूट (एनबीआरआई) और सेंट्रल इंस्टीट्यूट फॉर मेडिसिनल एंड एरोमैटिक प्लांट्स (सीआईएमएपी) द्वारा संयुक्त रूप से विकसित किया गया है.

जानिए मौत के बाद भी कैसे जिंदा रह सकते हैं आप

एनबीआरआई के वरिष्ठ प्रमुख वैज्ञानिक एकेएस रावत ने कहा, "मधुमेह के इलाज के लिए इस्तेमाल की जाने वाली आधुनिक दवाओं में  साइड-इफेक्ट्स और जहरीलाे पदार्थ होते हैं. जबकि बीजीआर-34 केवल ब्लड शुगर को नियंत्रित करने और अन्य हानिकारक दवाओं के दुष्प्रभावों को सीमित करने के काम आती है."

इसके लिए एनबीआरआई और सीआईएमएपी के वैज्ञानिकों ने आयुर्वेद में वर्णित करीब 500 प्राचीन जड़ी-बूटियों का अध्ययन किया. इनमें दरहरिद्र, गिलोय, विजयसर, गुड़मर, मजीठ और मेथिका को शामिल करके मधुमेह-रोधी दवा विकसित की है.

चांद से मुखड़े पर कैसे ग्रहण लगा सकता है ज्यादा मीठा भोजन

आयुर्वेदिक फार्मा कंपनी एआईएमआईएल फार्मास्यूटिकल्स बीजीआर-34 का व्यावसायिक उत्पादन करेगी. यह दवा पांच रुपये में मिलेगी और कर्नाटक और इसके पड़ोसी राज्यों में उपलब्ध होगी.

एआईएमआईएल फार्मास्यूटिकल्स के उपाध्यक्ष अनिल कुमार शर्मा ने कहा, "बीजीआर-34  एक यूनीक प्रोडक्ट है जो मधुमेह से पीड़ित लोगों की जिंदगी में सुधार करती है. तमाम परीक्षणों से गुजरने के बाद इस उत्पाद ने हाइपोग्लाइसीमिक एक्टिविटी दिखाई है."

First published: 28 June 2016, 19:48 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी