Home » इंडिया » Gorakhpur BRD medical college: dr. kafeel khan is out of jail in oxygen supply matter
 

गोरखपुर BRD मामला: आठ महीने बाद मिली डॉक्टर कफील को रिहाई, बोले- बच्चों को बचाने की कोशिश की थी

कैच ब्यूरो | Updated on: 29 April 2018, 7:39 IST

बीआरडी मेडिकल कॉलेज के ऑक्सीजन कांड मामले में डॉक्टर कफील को जेल से रिहाई मिल गयी. आठ महीनों से जेल में बंद डॉक्टर कफील को आखिरकार रिहाई मिली, जिसके बाद जेल के गेट पर अपनी पत्नी डॉ शबिस्ता खान और बच्ची को देखकर डॉ कफील रो पड़े.

गौरतलब है की पिछले साल 10 अगस्त की रात बीआरडी मेडिकल कॉलेज में ऑक्सिजन की कमी हो जाने के कारण 30 से अधिक बच्चों की मौत हो गई थी. इस मामले में मुख्य आरोपियों में से एक इंसेफेलाइटिस वॉर्ड के इंजार्च डॉ. कफील खान को एसटीएफ ने 2 सितंबर 2017 को गिरफ्तार किया था.

इसके बाद से डॉ कफील जेल में बंद थे. रिहाई के बाद डॉ कफील ने कहा, ‘10 अगस्त की रात को मैंने वही किया था, जो एक डॉक्टर, पिता और हिंदुस्तानी करता. मैंने बच्चों को बचाने की कोशिश की थी.’

जेल से रिहा होते ही डॉक्टर कफील खान ने कहा, 'आठ महीने जेल में बिताने के बाद मैं मानसिक तौर पर परेशान हो चुका हूं और शारीरिक तौर पर बीमार महसूस कर रहा हूं. मैं केवल घर जाना चाहता हूं, मां को गले लगाना चाहता हूं और आराम से सोना चाहता हूं.' उन्होंने कहा, 'इस दौरान मैंने अपने परिवार को मिस किया.'

 

जेल के आठ महीने बहुत डरावने थे
डॉ. कफील ने कहा, 'जेल में आठ महीने मेरे लिए बहुत ही ज्यादा डरावने थे, मुझे बिना किसी कारण के खतरनाक अपराधियों के बीच रखा गया. ये बहुत ही बुरा था. मुझे नहीं पता मैंने क्या गलत किया था. मैंने उस रात जो किया एक पिता की तरह, एक डॉक्टर की और हिन्दुस्तानी की तरह कोशिशि की, मेरी जगह कोई भी करता. मैंने तो सिर्फ बच्चों की जान बचाने की कोशिश की थी.' उन्होंने कहा, 'मीडिया ने मुझे उस समय बच्चों को बचाने के लिए दौड़ते देखा था.' कफील ने आग्रह किया, 'मेरे नाम के आगे ऑक्सिजन कांड का आरोपी लिखना बंद कर दें.'

सरकार के पास नहीं है उनके खिलाफ कोई सबूत

डॉ. कफील ने कहा कि आठ महीने में सरकार ने उनके खिलाफ कोर्ट में कोई ठोस सबूत नहीं पेश कर पाई है क्योंकि वह पूरी तरह से बेगुनाह हैं. उन्होंने कहा, 'मैंने ऐसा कुछ नहीं किया, जिसकी मुझे वजह से जेल में आठ महीने काटने पड़े.’ बता दें कि पिछले दिनों इलाज के लिए जेल से बाहर आए डॉ कफील ने जेल में अपनी जान को खतरा बताया था.

ये भी पढ़ें- सावधान: Facebookसे फिर हो सकता है आपका डेटा लीक

वहीं डॉक्टर कफील की पत्नी शबिस्तां खान ने पिछले दिनों अपने पति और अन्य आरोपी डॉक्टरों की जेल में हत्या की आशंका जाहिर की थी. डॉ. शबिस्तां का आरोप था कि जेल में बंद उनके पति को पिछली 29 मार्च को दिल का दौरा पड़ा था, मगर उन्हें ठीक तरह से इलाज नहीं दिया गया.इसके अलावा अन्य डॉक्टर जो कफील के साथ जेल में बंद हैं उन्हें भी सही से इलाज नहीं मुहैया कराया गया.

First published: 29 April 2018, 7:39 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी