Home » इंडिया » Gorakhpur By Poll Result: Ruckus In the Lok Sabha On DM's attitude
 

गोरखपुर उपचुनाव Live: डीएम के रवैये पर लोकसभा में हंगामा, लगे यूपी सरकार हाय-हाय के नारे

कैच ब्यूरो | Updated on: 14 March 2018, 13:36 IST

योगी आदित्यनाथ के गढ़ गोरखपुर में हुए लोकसभा उपचुनाव में आ रहे नतीजों ने राजनीतिक धुरंधरों को सोचने पर मजबूर कर दिया है. खबर आ रही है कि समाजवादी पार्टी हर राउंड में बीजेपी को पछाड़कर समाजवादी पार्टी तेजी से आगे निकल रही है. चौथे राउंड के बाद सपा प्रत्याशी प्रवीण निषाद लगभग 2900 वोटों से आगे चल रहे हैं.

इससे पहले खबर आ रही थी कि पिछड़ने की वजह से ही गोरखपुर का प्रशासन रिजल्ट की घोषणा नहीं कर रहा था. विपक्षी पार्टियों ने आरोप लगाया था कि योगी के निशाने पर गोरखपुर के सीएम रिजल्ट की घोषणा नहीं कर रहे हैं. खबर आ रही थी कि गोरखपुर लोकसभा उपचुनाव की आठ राउंड की गिनती हो चुकी है लेकिन यूपी का प्रशासन सिर्फ एक राउंड का ही रिजल्ट बता रहा है. इसके पीछे विपक्षी दल साजिश का आरोप लगा रहे थे. बताया जा रहा था कि रिजल्ट के घोषणा का इंतजाम नहीं किया गया है.

 

इसी मुद्दे को लेकर लोकसभा में हंगामा हो गया है. सपा सांसद धर्मेंद्र यादव की अगुवाई में सपा सांसदों ने गोरखपुर मतगणना मुद्दे पर वेल में आकर नारेबाजी की. कांग्रेस भी इस प्रदर्शन में शामिल है. विपक्षी सांसदों ने गोरखपुर उपचुनाव की वोटिंग प्रक्रिया में गड़बड़ी को लेकर जमकर नारेबाजी की.

भारी हंगामे के बीच सदन में यूपी सरकार हाय-हाय और गोरखपुर में लोकतंत्र की हत्या के नारे सुनाई दिए. इसके बाद लोकसभा की कार्यवाही स्थगित कर दी गई.

इससे पहले सुबह सपा प्रत्याशी ने ईवीएम में गड़बड़ी का आरोप लगाया था. सपा प्रत्याशी ने कहा था कि मैं चुनाव जीत सकता हूं अगर ईवीएम में गड़बड़ी नहीं की गई तो.

गौरतलब है कि गोरखपुर बीजेपी का गढ़ रहा है. यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने पिछले पांच बार से गोरखपुर से सांसद हैं. उनके पहले गोरखपुर मठ के ही महंत अवैद्यनाथ यहां के सांसद थे. साल 2017 में यूपी का सीएम बनने के बाद योगी आदित्यनाथ ने इस सीट से इस्तीफा दे दिया था.

गोरखपुर लोकसभा सीट के उपचुनाव के लिए बीजेपी ने उपेंद्र शुक्ला को मैदान में उतारा है. बीजेपी को मात देने के लिए बसपा समर्थित सपा उम्मीदवार प्रवीण निषाद हैं. वहीं कांग्रेस ने सुरहिता करीम को टिकट दिया है. इस बार सभी उम्मीदवार मठ के बाहर के हैं.

First published: 14 March 2018, 13:36 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी