Home » इंडिया » gorakhpur,phulpur lok sabha up by election campaign ends,tough fight between sp and bsp
 

यूपी उपचुनाव: गोरखपुर-फूलपुर सीट पर चुनाव प्रचार खत्म, भाजपा की साख तोड़ पाएगी सपा-बसपा!

हेमराज सिंह चौहान | Updated on: 9 March 2018, 22:41 IST

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा उपचुनावों के लिए चुनाव प्रचार शुक्रवार को समाप्त हो गया. इन दोनों सीटों पर रविवार(11 मार्च) को वोट डाले जाएंगे. इन दोनों सीटों पर मतगणना 14 मार्च को होगी. भाजपा के लिए मुकाबला साख का विषय है. 

ये दोनों सीटें यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ और डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य के इस्तीफे की वजह से खाली हुई हैं. योगी आदित्यनाथ पिछले पांच बार से गोरखपुर सीट से लोकसभा के सांसद थे. वहीं फूलपुर लोकसभा सीट भाजपा ने साल 2014 में पहली बार जीती थी. ये कांग्रेस की परंपरागत सीट है. यहां से कभी जवाहर लाल नेहरू चुनाव लड़ते थे. 

इस उपचुनाव में यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य, सपा प्रमुख अखिलेश यादव और उत्तर प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष राज बब्बर ने जोरदार चुनाव प्रचार किया है. इन सबकी कोशिश इस चुनाव में जीत हासिल कर अपनी साख बढ़ाना है.

बसपा ने इस चुनाव में कोई उममीदवार घोषित नहीं किया है. बसपा प्रमुख मायावती ने सीधे तौर भाजपा को हराने के लिए वहां के मजबूत उम्मीदवार को वोच देने की अपील की है. इससे भाजपा की मुश्किलें बढ़ गई है. ऐसे में इन सीटों पर मुकाबला दिलचस्प होने के संकेत है. 

गौरतलब है कि गोरखपुर लोकसभा सीट से भाजपा ने उपेन्द्र शुक्ला को टिकट दिया है. वहीं समाजवादी पार्टी ने इस सीट से निषाद पार्टी के अध्यक्ष संजय निषाद के बेटे प्रवीण निषाद को अपना प्रत्याशी बनाया है. कांग्रेस ने सुरहिता करीम चैटर्जी को अपना उम्मीदवार बनाया है.

इसके अलावा कांग्रेस की परपंरागत फूलपुर लोकसभा सीट की बात करें तो भाजपा ने युवा नेता कौशलेंद्र पटेल को टिकट दिया है. समाजवादी पार्टी ने नागेन्द्र पटेल और कांग्रेस ने मनीष मिश्रा को उम्मीदवार बनाया है. जेल में बंद माफिया डॉन अतीक अहमद ने भी निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर इन चुनावों में पर्चा भरा है. ऐसे में इन सीटों पर सीधा मुकाबला भाजपा-सपा और कांग्रेस के बीच है. इसे जानकार लोग 2014 लोकसभा चुनावों का सेमीफाइनल भी मान रहे हैं.

First published: 9 March 2018, 22:40 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी