Home » इंडिया » Government to start new course for Data security, become cyber soldier to prevent hacking
 

अब कोई नहीं कर पाएगा आपका डाटा हैक, इस तरीके से आप खुद कर सकते हैं अपने अकाउंट की निगरानी

कैच ब्यूरो | Updated on: 5 February 2019, 11:07 IST

मौजूदा समय में डाटा हैकिंग की बढ़ती घटनाओं को देखते हुए सरकार ने एक बड़ा कदम उठाया है. अब आप खुद अपने निजी डाटा, एकाउंट्स और निजी जानकारियों को हैक होने से बचा सकते हैं. हैकिंग के इस खतरनाक खेल में अब आप खुद साइबर सोल्जर बन सकते हैं. जिससे कि आप अपने निजी डाटा को सुरक्षित रख सके.

सरकार ने साइबर सोल्जर्स को पढ़ाई जाने वाले एक ख़ास कोर्स को पढ़ाने के लिए इजाजत दे दी है. इस कोर्स का नाम है आर्टिफीशियल इंटेलिजेंस. इस कोर्स की पढ़ाई करके अब आप अपने डाटा सुरक्षा से जुड़ी कई अहम टेक्निकल जानकारी हासिल कर सकते हैं.

इस नए कोर्स के बारे में डॉ. बीआर अंबेडकर विवि के पूर्व प्रोफेसर दिवाकर तिवारी ने बताया, '' वैसे तो ऑर्टिफिशियल इंटेलिजेंस कोर्स के एक नहीं कई फायदे हैं. नौकरी के लिहाज से इंजीनियरिंग के छात्रों के लिए इसे गेट वे ऑफ जॉब भी कह सकते हैं. ये कोर्स कंप्यूटर साइंस, बीटेक और एमटेक में पढ़ाया जाएगा. अब तो सरकार ने बजट में भी इसे अनुमति दे दी है.'' बता दें प्रोफेसर तिवारी अंबेडकर विवि के इंजीनियरिंग विभाग में प्रोफेसर रहे हैं.

गौरतलब है कि ये कोर्स अब तक सिर्फ एक चैप्टर के रूप में पढ़ाया जाता था. साथ ही अभी तक इस कोर्स की पढ़ाई थ्योरी में ही होती थी. लेकिन अब इस कोर्स को प्रेक्टिकल सब्जेक्ट के रूप में भी पढ़ाया जाएगा. प्रोफेसर तिवारी ने बताया, '' इंजीनियरिंग की पढ़ाई में शामिल होने के बाद छात्रों के लिए खासतौर से ऑटो मोबाइल, कोयले आदि की खान, ऑयल एण्ड गैस, रक्षा संस्थान और ऐथिकल हैकर्स के रूप में बड़ी-बड़ी कंपनियों में जॉब के रास्ते खुलेंगे.''

लोकसभा चुनाव के पहले मोदी का मास्टरस्ट्रोक, सामने आएंगे स्विस बैंक में काला धन रखने वालों के नाम

क्या होता है आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का मतलब है बनावटी तरीके से विकसित की गई बौदि्धक क्षमता. इसके जरिए कंप्यूटर सिस्टम तैयार किया जाता है. बता दें, इस आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के जरिए ही साल 1997 में शतरंज के महान खिलाड़ी माने जाने वाले गैरी कास्पोरोव को भी हराया गया था. इससे ही इस सिस्टम की सफलता पर मुहर लग गई थी.

आपको बता दें, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस एक वो सिस्टम हैं जिसमें ये इंसान की तरह सोच सकता है. इसी के साथ ये इंसानों की तरह ही व्यवहार करता है. यह तथ्यों को समझ कर अपनी प्रतिक्रिया देने में भी सक्षम है.

First published: 5 February 2019, 11:07 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी