Home » इंडिया » Governmentt to crack down on broadcast of Zakir Naik's Peace TV
 

जाकिर नाइक के पीस टीवी के प्रसारण पर प्रतिबंध के सख्त निर्देश जारी

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 July 2016, 11:59 IST

मुस्लिम धर्म प्रचारक जाकिर नाइक के चैनल पीस टीवी के प्रसारण पर देश में सख्ती बरतने का फैसला लिया गया है. सूचना और प्रसारण मंत्रालय ने डायरेक्ट टू होम सर्विस प्रदाता और केबल ऑपरेटरों को सख्त निर्देश दिए हैं कि वे पीस टीवी का प्रसारण न करें.

इसके साथ ही यूटीवी पर भी पीस टीवी का यूआरएल ब्लॉक करने के लिए कदम उठाए जा रहे हैं. साथ ही अन्य देशों में भी उसके प्रसारण को रोकने की कोशिश की जाएगी. 

डीटीएच-केबल ऑपरेटरों को सख्त निर्देश

केंद्रीय सूचना प्रसारण मंत्री वेंकैया नायडू ने यह फैसला करने से पहले बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह से मुलाकात की. इस दौरान शाह और नायडू के बीच इस मुद्दे पर लंबा मंथन हुआ.

ढाका पर आतंकी हमले के बाद जाकिर नाइक के भाषणों में आतंक को बढ़ावा देने के आरोप सामने आने के बाद केंद्र सरकार हरकत में आई है. सरकार ने नाइक के चैनल के साथ उनकी संस्था इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन के खिलाफ शिकंजा कस दिया है. 

दो बार लाइसेंस आवेदन खारिज

सूत्रों के मुताबिक बीते सालों में पीस टीवी ने देश में प्रसारण के लिए दो बार लाइसेंस का आवेदन किया था, लेकिन उसे जांच पड़ताल के बाद खारिज कर दिया गया.

ऐसे में बिना लाइसेंस के पीस टीवी का प्रसारण करने पर केबल ऑपरेटरों के उपकरण भी जब्त किए जा सकते हैं. केंद्र सरकार, राज्य और जिला मानिटरिंग कमेटियों को भी निर्देश देने जा रही है कि वो इस पर नजर रखें.

इसके साथ ही सोशल मीडिया पर भी इसकी क्लिपिंग आदि पर नजर रखी जाएगी और रिपोर्ट मिलने पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

दिखाने पर सख्त दंडात्मक कार्रवाई

हालांकि जाकिर नाइक के चैनल पीस टीवी के प्रसारण पर 2012 से ही देश में बैन लगा हुआ है, इसके बावजूद केबल ऑपरेटरों के जरिए चोरी-छिपे इस चैनल का प्रसारण होता रहा है.

पीस टीवी संयुक्त अरब अमीरात के शहर दुबई से चलने वाला 24 घंटे का चैनल है. जाकिर नाइक ही इसके संस्थापक और मालिक हैं. चैनल जनवरी 2006 में शुरू हुआ था.

विदेश में भी बैन की कवायद

सूत्रों के अनुसार केंद्र सरकार कनाडा, इंग्लैंड और मलेशिया में प्रसारण बैन करने भी प्रक्रिया जानने की कोशिश कर रही है. विदेश मंत्रालय इन देशों के साथ इस बारे में जानकारी जुटाएगा. पीस टीवी को लेकर सतर्क हुई सरकार देश में प्रतिबंधित अन्य चैनलों के प्रसारणों की भी जानकारी जुटा रही है.

दोषी पाए जाने पर प्रसारणकर्ता और केबल आपरेटर पर सख्त कानूनी दंडात्मक कार्रवाई की जाएगी. इस बीच जाकिर नाइक के मुद्दे पर सियासत भी गरमाई हुई है. 

बीजेपी के प्रवक्ता श्रीकांत शर्मा ने कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह द्वारा नाइक को शांति दूत बताए जाने पर तीखी प्रतिक्रया जताई है. बीजेपी प्रवक्ता ने मांग की कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को इस बारे में पार्टी की नीति स्पष्ट करनी चाहिए.

दिग्विजय सिंह के साध्वी प्रज्ञा के मामले से इसकी तुलना करने की भी बीजेपी ने निंदा करते हुए कहा कि वह कांग्रेस सरकार की एक साजिश थी. श्रीकांत शर्मा ने गृह मंत्री राजनाथ सिंह की मालेगांव ब्लास्ट मामले में जेल में बंद साध्वी प्रज्ञा से मुलाकात से इनकार किया है.

First published: 9 July 2016, 11:59 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी