Home » इंडिया » Governor NN Vohra has promulgated The Jammu & Kashmir Criminal Law 2018 & Jammu and Kashmir Protection of Children from Sexual Violence 2018
 

राज्यपाल एनएन वोहरा ने जम्मू कश्मीर POCSO एक्ट को दी मंजूरी, रेप करने वाले को होगी फांसी की सजा

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 May 2018, 16:17 IST

जम्मू कश्मीर में 12 साल से कम उम्र की बच्चियों से रेप करने वालों को मौत की सजा देने का कानून पूरी तरह से लागू हो गया है. राज्यपाल एनएन वोहरा ने राज्य सरकार के 12 साल से कम उम्र की बच्चियों से रेप से जुड़े जम्मू एंड कश्मीर क्रिमिनल कानून संशोधन अध्यादेश 2018 और जम्मू एंड कश्मीर प्रोटेक्शन ऑफ चिल्ड्रन फ्रॉम सेक्सुअल हिंसा अध्यादेश 2018 को मंजूरी दे दी है.

इस कानून के लागू हो जाने के बाद अब राज्य में 12 साल से कम उम्र की बच्चियों के साथ रेप करने वालों को मौत की सजा सुनाई जा सकेगी.आपको बता दें कि महबूबा सरकार ने रसाना मामले में जम्मू-कश्मीर सहित पूरे देश में फैले आक्रोश जम्मू एंड कश्मीर क्रिमिनल कानून संशोधन अध्यादेश 2018 और जम्मू एंड कश्मीर प्रोटेक्शन ऑफ चिल्ड्रन फ्रॉम सेक्सुअल हिंसा अध्यादेश 2018 को मंजूरी दी थी.

इससे पहले 21 अप्रैल को केंद्र सरकार ने भी POCSO एक्ट में संसोधन करते हुए 12 साल से कम उम्र की बच्चियों से रेप करने वालों को फांसी की सजा के प्रावधान को शामिल किया था. लेकिन केंद्र का कानून जम्मू कश्मीर में लागू नहीं होने के चलते राज्य की महबूबा सरकार ने भी इस एक्ट में संसोधन करते हुए मौत की सजा का प्रावधान कर दो अध्यादेशों को मंजूरी दी थी.

क्या क्या प्रावधान किए गए हैं ?

जम्मू एंड कश्मीर क्रिमिनल कानून संशोधन अध्यादेश 2018 के तहत 12 वर्ष से कम उम्र की बच्चियों से रेप करने वालों को फांसी की सजा का प्रावधान किया गया है. वहीं 12 से 16 साल की बच्चियों के साथ रेप करने वालों को आजीवन कारावास की सजा का प्रावधान किया गया है.

ये भी पढ़ें- कर्नाटक के गवर्नर पर ने खुलेआम भ्रष्टाचार का न्योता दिया- राम जेठमलानी

इसके साथ ही इस कानून के तहत अब ऐसे मामलों की जांच को दो महीने में पूरा करना होगा. वहीं छह महीने के अंदर मामले की सुनवाई पूरी करनी होगी. किसी कारण से ऐसे मामलों में देरी होती है तो इसकी सूचना सुप्रीम कोर्ट को देनी होगी.

इसके साथ ही ये कानून बच्चियों को बच्चों के मैत्रीपूर्ण तरीके प्रावधान उपलब्ध करवाएगा. इसमें मामले की रिपोर्टिंग से लेकर जांच को शामिल किया गया है. ऐसे मामलों की सुनवाई के लिए विशेष अदालतों का गठन किया जाएगा. इसके साथ ही इस कानून में यौन उत्पीड़न से जुड़े मामलों की गोपनीयता को बनाए रखने का प्रावधान किया गया है.

First published: 17 May 2018, 16:17 IST
 
अगली कहानी