Home » इंडिया » grave doubts about afzal involvement in parliament attack says chidambaram
 

'अफजल पर फैसला सही नहीं, बिना पैरोल के दी जा सकती थी उम्रकैद'

कैच ब्यूरो | Updated on: 25 February 2016, 13:55 IST

मनमोहन सरकार में गृह और वित्त मंत्री जैसे अहम पदों पर रहे कांग्रेस नेता पी चिदंबरम ने कहा है कि संसद हमले के दोषी अफजल गुरु की फांसी पर ठीक से फैसला नहीं हुआ.

अंग्रेजी अखबार इकॉनामिक टाइम्स को दिए इंटरव्यू में चिदंबरम ने कहा, 'इस बात पर गहरा संशय है कि 2001 में संसद पर हमले की साजिश में अफजल किस हद तक शामिल था. अफजल को बिना पैरोल के उम्रकैद दी जा सकती थी.'

जब उनसे पूछा गया कि अफजल गुरु को फांसी देने के लिए कोर्ट सही निष्‍कर्ष पर पहुंची थी? उन्होंने कहा, 'सरकार में होने के चलते आप ऐसा नहीं कह सकते कि अदालत ने केस को लेकर गलत निर्णय लिया क्‍योंकि वो सरकार ही थी जिसने उसके खिलाफ  केस लड़ा था. लेकिन, एक स्‍वतंत्र व्‍यक्ति इस पर अपनी राय रख सकता है कि केस का निर्णय ठीक से नहीं हुआ.'

जेएनयू छात्रों पर लगाए जा रहे देशद्रोह के आरोपों को चिदंबरम ने बेतुका करार दिया. उन्होंने कहा कि अदालत पहली ही सुनवाई में इन आरोपों को खारिज कर देगी.

First published: 25 February 2016, 13:55 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी