Home » इंडिया » GST session today, Narendra Modi, Pranab Mukherjee will present gst many stars will be present in parliament
 

संसद में लगेगा सितारों का जमघट, आधी रात में लाॅन्च होगा GST

कैच ब्यूरो | Updated on: 30 June 2017, 9:40 IST
ट्विटर

संसद का सेंट्रल हॉल 30 जून की आधी रात को सितारों से जगमगाएगा. जीएसटी लॉन्च होने के मौके पर मेगास्टार अमिताभ बच्चन से लेकर उद्योग जगत की जानी-मानी हस्ती रतन टाटा और स्वर सामाज्ञ्री लता मंगेशकर मौजूद रहेंगी.

जब आजादी के बाद के सबसे बड़े कर सुधार गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स (जीएसटी) की शुरुआत की जाएगी. उस दौरान कर्इ जाने-माने सितारे मौजूद होंगे. इससे पहले 1997 में आजादी की स्वर्ण जयंती के मौके पर संसद का विशेष सत्र बुलाया गया था, जिसमें आधी रात का कार्यक्रम आयोजित किया गया था, लेकिन इस बार यह संसद के केन्द्रीय कक्ष में भव्य कार्यक्रम होगा जिसे इस महत्वपूर्ण कर सुधार की शुरुआत के लिये चुना गया है.

कार्यक्रम में राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी उपस्थित होंगे. यह कार्यक्रम 15 अगस्त 1947 की आधी रात की याद दिलाने वाला होगा, जब भारत अपनी भविष्य की राह पर आगे निकला था. पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और एच डी देवगौड़ा को भी इस नई कर प्रणाली की शुरुआत के एेतिहासिक क्षण पर आमंत्रित किया गया है. 

2000 अरब डॉलर की इकनॉमी

माना जा रहा है कि जीएसटी के लागू होने से 2,000 अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था को नया आकार मिलेगा. कांग्रेस पार्टी ने कार्यक्रम का बहिष्कार करने का फैसला किया है समझा जा रहा है कि छोटे और मध्यम व्यापारियों को होने वाली कठिनाई को देखते हुये कांग्रेस ने बहिष्कार का फैसला लिया है.

सूत्रों के अनुसार राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और पूर्व प्रधानमंत्रियों के साथ उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी और लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन भी मंच पर विराजमान होंगी. प्रसिद्ध गायिका लता मंगेशकर भी इस अवसर पर संसद के केन्द्रीय कक्ष में उपस्थित होंगी. इसके अलावा भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और पूर्व वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा भी उपस्थित होंगे. राज्यों से भी अनेक गणमान्य व्यक्ति इस कार्यक्रम में हिस्सा लेंगे. 

राष्ट्रपति ने की GST की तारीफ़

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने 1 जुलाई से वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) को लागू करने के केंद्र सरकार के कदम की गुरुवार को सराहना करते हुए कहा कि इससे कई करों के भार से आजादी मिलेगी, जिसे लोगों को अब तक भरना पड़ता था.

देश की 130 करोड़ की आबादी के लिए एक कर प्रणाली को लागू करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तथा केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली का शुक्रिया अदा करते हुए राष्ट्रपति ने कहा कि अब तक उपभोक्ताओं को वस्तु एवं सेवाओं के उत्पादन मूल्य पर 30 से 40 फीसदी अधिक खर्च करना पड़ता था. 

वामपंथी दल और तृणमूल कांग्रेस भी कार्यक्रम का बहिष्कार करेंगे. इस महत्वपूर्ण कार्यक्रम की शुरुआत 30 जून को रात 11 बजे होकर आधी रात तक यह कार्यक्रम चलेगा, जिसके साथ ही देश में माल एवं सेवा कर व्यवस्था शुरू हो जाएगी.

First published: 30 June 2017, 9:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी