Home » इंडिया » Guj govt.: Haren Pandya' s wife Jagruti is child rights panel chief
 

गुजरात : हरेन पांड्या की पत्नी बनीं बाल अधिकार संरक्षण आयोग की अध्यक्ष

आशीष कुमार पाण्डेय | Updated on: 14 January 2016, 20:40 IST

गुजरात के पूर्व मंत्री और बीजेपी के नेता हरेन पांड्या की हत्या के तेरह साल के बाद गुजरात सरकार ने उनकी पत्नी जागृति पांड्या को राज्य के बाल अधिकार संरक्षण आयोग का अध्यक्ष बनाया है.

आयोग के अध्यक्ष का पद राज्य मंत्री के समकक्ष माना जाता है. इस मामले में उन्होंने प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि मुझे लेटर मिल गया है और मुझे राज्य में बच्चों के अधिकार और उनके विकास पर व्यापक कार्य करना है. 

गुजरात के पूर्व गृह मंत्री हरेन पांड्या की 6 मार्च 2003 को अहमदाबाद लॉ गार्डेन में हत्या कर दी गई है. इस समय इस मामले में 12 लोगों को आरोपी बनाया गया था.

जिन्हें गुजरात हाई कोर्ट ने सबूत न मिलने के कारण बरी कर दिया था. हाई कोर्ट के इस फैसले के खिलाफ सरकार ने इस मामले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी है और इस समय यह केस सुप्रीम कोर्ट में चल रहा है.

यह मामला भाजपा के लिए परेशानी का सबब बन गया था, जब इस पांड्या की हत्या को भाजपा की अंधरूनी कलह से जोड़ कर बातें की जाने लगीं. शुरूआती दौर में अहमदाबाद क्राइम ब्रांच के डीसीपी डीजी बंजारा ने इस मामले की जांच रिपोर्ट दी थी.

तब पांड्या की पत्नी जागृति पांड्या ने इस पर सवाल उठाये थे. इसके बाद इस जांच को सीबीआई को दे दिया गया. बाल अधिकार संरक्षण आयोग के अध्यक्ष पद पर जागृति पांड्या की नियुक्ति को उनकी बीजेपी में वापसी के तौर पर देखा जा रहा है.

जागृति ने साल 2012 में गुजरात परिवर्तन पार्टी के टिकट पर चुनाव लड़ा था, लेकिन वो चुनाव हार गयी थीं. साल 2014 में गुजरात परिवर्तन पार्टी के भाजपा में मर्ज हो जाने के बाद वो सक्रिय राजनीति से दूर हो गई थीं.

बाल अधिकार संरक्षण आयोग के अध्यक्ष बनाये जाने के बाद जागृति ने कहा कि मैं कभी भी भाजपा के सिद्धांतों के खिलाफ नहीं थी. मैं ये अच्छे से जानती हूं कि पार्टी ने हरेन पांड्या को कभी नहीं भुलाया था.

First published: 14 January 2016, 20:40 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी