Home » इंडिया » Gujarat ATS chargesheet: PM Modi was on target of ISIS
 

PM मोदी की स्नाइपर रायफल से हत्या करना चाहता था आतंकी संगठन ISIS

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 May 2018, 9:29 IST

आतंकवादी संगठन आईएस प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की हत्या करना चाहता था. आईएस ने इसके लिए प्लान भी तैयार कर लिया था. वह स्नाइपर राइफल से पीएम मोदी को मारना चाहता था. इसका खुलासा गुजरात ATS ने किया है. गुजरात ATS ने आईएस के कथित ऑपरेटिव के मामले में अंकलेश्‍वर की अदालत में एक चार्जशीट दाखिल की है.

गुजरात ATS की चार्जशीट में कहा गया है कि आईएस का संदिग्‍ध ऑपरेटिव उबैद मिर्जा पीएम मोदी की स्नाइपर राइफल से हत्‍या करना चाहता था. ATS की चार्जशीट में कहा गया कि उबैद मिर्जा ने इसका इरादा एक मैसेजिंग ऐप पर जाहिर किया था. गुजरात ATS ने मोबाइल फोन और पेन ड्राइव से उसके मेैसेज भी हासिल कर लिए हैं.

 

बता दें कि उबैद मिर्जा और कासिम स्टिम्बेरवाला नामक दो संदिग्ध को गुजरात ATS ने 25 अक्‍टूबर, 2017 को अंकलेश्‍वर से गिरफ्तार किया था. उबैद मिर्जा वकालत की प्रैक्टिस करता था. जबकि कासिम स्टिंबरवाला अंकलेश्वर के सरदार पटेल अस्पताल और हृदय रोग संस्थान में बतौर लैब टेक्नीशियन काम करता था. वह मार्च 2017 तक इस संस्थान में काम कर रहा था. दोनों ही सूरत के रहने वाले हैं.

स्टिंबरवाला ने गिरफ्तारी से महज 21 दिन पहले ही नौकरी से इस्तीफा दिया था. वह जमैका जाना चाहता था, जहां से वह विवादित धर्म प्रचारक शेख अब्दुल्ला अल फैसल के साथ जिहादी मिशन से जुड़ना चाहता था.

 

गुजरात के अंकलेश्‍वर की अदालत में दाखिल चार्जशीट के अनुसार, मिर्जा के पास से बरामद हुए सेलफोन और पेन ड्राइव से पीएम मोदी को निशाना बनाने की बातें पता चली हैं. वह इन्हीं से मैसेजिंग ऐप के जरिए संदेश भेजता था.

चार्जशीट में लिखा है कि उबैद मिर्जा ने 10 सितंबर, 2016 को संदेश भेजा था कि पिस्‍तौल खरीदना है और उसके बाद मैं उनसे संपर्क करने का प्रयास करूंगा. हालांकि चार्जशीट में यह स्पष्ट नहीं है कि इस शब्द का इस्‍तेमाल किसके लिए किया गया है.

पढ़ें- जिन्ना विवाद: अब BJP सांसद ने जिन्ना को बताया महापुरुष, कहा- आजादी की लड़ाई में था योगदान

इसके बाद मिर्जा को खुद को फेरारी बताने वाले एक व्‍यक्ति से रात 11 बजकर 28 मिनट पर संदेश मिला कि ठीक, मोदी को स्नाइपर राइफल से मारते हैं. ATS के अनुसार आईएस के कुछ संदिग्ध आतंकी, जो अब गवाह बन चुके हैं. ये जानकारी उन्हीं के हवाले से दी जा रही है.

First published: 11 May 2018, 9:25 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी