Home » इंडिया » Gujrat Government will improve Ecomy by selling cow dung and urine
 

गुजरात का नया विकास मॉडल, गाय के गोबर से संभलेगी अर्थव्यवस्था

कैच ब्यूरो | Updated on: 15 December 2018, 15:02 IST

गुजरात सरकार ने एक नया मॉडल पेश किया है. इसके तहत अब सरकार राज्य में गायों के कल्याण के लिए गोबर का इस्तेमाल करेगी. सरकार का उद्देश्य है की इस तरीके से गायों का संरक्षण भी हो सकेगा और इसी के साथ बड़ी मात्रा में गोबर का भंडारण करके जैविक खाद को बेचा जाएगा. इसे पूँजी इकठ्ठा की जाएगी.

इस मामले में राज्‍य के वरिष्‍ठ मंत्री भूपेंद्र सिंह चुडास्‍मा का कहना है कि सरकार का उद्देश्य है कि राज्य की सभी गोशालाओं में गाय के मूत्र और गोबर का भंडारण किया जाए. जिससे कि उनसे जैविक खाद बनाई जा सके. ऐसा करने से जैविक खाद और प्राकृतिक कीटनाशकों की मांग की आपूर्ति की जा सकेगी. सरकार ऐसा करके बड़ी मात्रा में जैविक खाद बनाकर उसे बेचेगी ताकि राज्य में पूंजी एकत्र की जा सके.

गो संरक्षण मामलों के प्रभारी भूपेंद्र सिंह का कहना है कि ऐसा करने से जैविक खाद, कृतिक कीटनाशक और आयुर्वेदिक उत्‍पाद बनाने वाली कंपनियों को कच्चा माल मुहैया कराया जा सकेगा. और इससे सरकार की आर्थिक स्थिति भी मजबूत होगी.

भूपेंद्र सिंह ने ये भी बताया कि इस पूरे प्रक्रम के लिए एक तंत्र को तैयार किया जाएगा. जिसमे किसान सहकारी समितियों को भी जोड़ा जाएगा. सिंह का कहना है कि ऐसे में सरकार को इस योजना से कागि आर्थिक सहयोग मिलेगा.  इस योजना के लिए सरकार ने राज्य के 11 जिलों के 412 पशुशालाओं में उपस्थित 2.30 लाख पशुओं को वित्‍तीय मदद देने का भी ऐलान किया है. इसके तहत रोजाना हर पशु के हिसाब से 25 रुपये दिए जाएंगे.

ये भी पढ़ें 'महिलाओं को बॉर्डर पर भेजा तो लगाएंगी तांक-झांक के आरोप'

आवारा पशुओं की समस्या से मिलेगी निजात

राज्य सरकार के आंकड़ें के हिसाब से राज्य में भरी मात्रा में पशुपालक अपने पशुओं को खुला छोड़ रहे हैं. खासकर ऐसी गायों को जो अब दुधारू नहीं है. आवारा पशुओं के बढ़ने के मामले में एक ट्रस्‍ट के रमेश दोषी का कहना है, ''अकेले पिछले दो महीनों में ही हमारी पशुशाला में जानवरों की संख्‍या 9 हजार से बढ़कर 11 हजार हो गई है. सूखे चारे की कीमत 200 रुपये प्रति 40 किलो से बढ़कर 500 रुपये हो गई है. किसान अपने जानवरों का पेट नहीं भर पा रहे हैं''

First published: 15 December 2018, 15:02 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी