Home » इंडिया » Gujrat, rajasthan and other 3 state will increase electricity charge to secure SBI loss
 

चुनावों के पहले जनता को झटका, SBI का पैसा बचाने के लिए 5 राज्यों में महंगी होगी बिजली

कैच ब्यूरो | Updated on: 4 December 2018, 14:25 IST

देश में एक तरफ तो चुनावों को लेकर राजनैतिक पार्टियां बड़े बड़े वादे कर रही हैं. वहीं दूसरी तरफ अब देश में कोयले ने चलने वाले बिजली पावर स्टेशनों को सामने एक बड़ी चुनौती है. इसी समस्या को देखते हुए गुजरात सरकार ने राज्य में टाटा, अडानी और एस्सार पावर कंपनियों के लिए छूट देने की पहल की है. गुजरात में राज्य सरकार इन संयत्रों के लिए बिजली की दरों में इजाफा करने की छूट देगी.

गौरतलब है कि इस बार बिजली संयंत्रों के सामने ये बड़ी चुनौती विदेशी कोयले के चलते खड़ी हुई है. वहीं सरकार अब इससे निपटने के लिए आम आदमी की जेब पर बोझ डालने की तैयारी में है. इसी एक साथ महाराष्ट्र, पंजाब, राजस्थान और हरियाणा जैसे राज्य भी इस संकट से उबरने के लिए जनता की जेब पर ही भार दाल सकते हैं. बता दें कि ये सभी राज्य भी अपनी जरूरत की बिजली टाटा, अडानी और एस्सार के गुजरात स्थित पावर स्टेशन से ही खरीदते हैं.

वहीं अगर अंतरराष्ट्रीय बाजार में कोयले की स्थिति को देखें तो कोयले की कीमत में हो रही गिरावट के चलते इंडोनेशिया के कोयला खदानों पर बंद होने का खतरा था. इससे बचाव के लिए इंडोनेशिया सरकार ने निर्यात किए जाने वाले कच्चे कोयले का भाव बढ़ाया है. ये इजाफा लगातार जारी है.

इसी के चलते बीते कुछ महीनों बढ़ते कच्चे कोयले के दामों को देखते हुए गुजरात सरकार ने जुलाई में उच्च स्तरीय समिति का गठन किया. इस समिति ने बढ़ते कोयले के दामों का हवाला देते हुए राज्य की निजी क्षेत्र की इन तीनों कंपनियों को बिजली की दरें बढ़ाने की इजाजत देने का सुझाव दिया.

ये भी पढ़ें- बुरी खबर: पेट्रोल-डीजल के दामों में कटौैती पर लग सकता है ब्रेक, कच्चे तेल के दामों ने पकड़ी रफ्तार

 

ध्यान देने की बात ये है कि इन सभी पॉवर प्रोजेक्ट्स को स्टेट बैंक ऑफ इंडिया का ही सहारा है. मौजूदा हालात को देखती हुए एसबीआई ने दावा किया है कि ऐसी स्थितियों मेंइन पावर कंपनियों को नुक्सान होना तय है. जिससे कि एसबीआई के लिए ये कंपनियां नॉन परफॉर्मिंग प्लांट हो जाएंगीं.

अगर ये कंपनियां डूबती हैं तो इनको कर्ज देने वाला यानी एसबीआई भी मुश्किल में पड़ जाएगा. इस तरह की आर्थिक समीकरणों के चलते ही अब सरकार की प्लानिंग है कि इसकी वसूली भी जनता के ही पैसों से की जाएगी. देखने वाली बात ये भी है कि इस फैसले का आने वाले लोकसभा चुनाव पर क्या प्रभाव पड़ता है.

First published: 4 December 2018, 14:25 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी