Home » इंडिया » Gujrat Riots: Bombay high court upheld life imprisonment for 11 culprits in Bilkis Bano case
 

गुजरात दंगा: बिलकिस कांड में बॉम्बे हाईकोर्ट से 11 मुजरिमों की उम्रक़ैद की सज़ा बरक़रार, पुलिसवाले और डॉक्टर भी दोषी

कैच ब्यूरो | Updated on: 4 May 2017, 14:09 IST

गुजरात दंगों की पीड़ित बिलकिस बानो के मामले में बॉम्बे हाईकोर्ट ने 11 दोषियों की उम्रकैद की सज़ा बरकरार रखी है. इसके अलावा कोर्ट ने 7 लोगों को बरी किए जाने के फैसले को भी पलट दिया है और उन्हें भी सज़ा सुनाई है. सज़ा पाने वालों में पांच पुलिसवाले और दो डॉक्टर भी शामिल हैं जिनपर सबूतों से छेड़छाड़ का आरोप है. बॉम्बे हाईकोर्ट ने कुल 19 लोगों को सज़ा सुनाई है. 


बिलकिस कांड के सभी आरोपियों ने ट्रायल कोर्ट के फैसले के खिलाफ बॉम्बे हाईकोर्ट में अपील की थी लेकिन उन्हें राहत नहीं मिली. हालांकि बॉम्बे हाईकोर्ट ने इस कांड के तीन मुख्य दोषियों जसवंत नाई, गोविंद नाई और शैलेष भट को फांसी देने की याचिका खारिज कर दी है. फांसी की मांग सीबीआई की तरफ से की गई थी. 

 

 


बिलकिस बानो 2002 में हुए गुजरात दंगों के सैकड़ों पीड़ितों का प्रतीक बन गई थीं. दंगों के वक़्त बिलकिस की उम्र महज़ 19 साल थी और वह 5 महीने की गर्भवती थीं. इसी दौरान दंगाइयों ने उनका बलात्कार किया और परिवार के 14 लोगों की हत्या कर दी.


दंगों के दौरान बिलकिस अहमदाबाद के पास नीमखेड़ा इलाक़े में रहती थीं लेकिन हालात खराब होने पर जब वह परिजनों के साथ वहां से सुरक्षित निकलने की कोशिश कर रही थीं, तभी दंगाइयों ने उन्हें पकड़ लिया.

 

इस कांड में बच निकलने वाली बिलकिस के मैजिस्ट्रेट से कहा था, 'वे सबको मार रहे थे, मुझे भी मारा था और कुछ देर बाद मैं बेहोश हो गई थी. जब मुझे होश आया तो बदन पर कपड़े नहीं थे. बच्ची की लाश पास में पड़ी थी और परिवार के लोग मिल नहीं रहे थे. दंगाइयों उन्हें मरा मानकर छोड़कर गए थे.

इस कांड का सबसे दर्दनाक पहलू यह है कि बिलकिस जब मदद के लिए पुलिस के पास पहुंचीं तो उन्हें डराया गया. पुलिसवालों ने कहा कि उन्हें डॉक्टर के पास ले जाया जाएगा जहां डॉक्टर ज़हरीला इंजेक्शन लगाएंगे. बिलकिस की मदद डॉक्टरों ने भी नहीं की थी और सबूतों के साथ छेड़छाड़ कर गलत रिपोर्ट दी थी.

मगर हार मानने की बजाय बिलकिस इस लड़ाई को सुप्रीम कोर्ट तक ले गईं जहां मामला सीबीआई को सौंपा गया. फिर जांच एजेंसी ने नीमखेड़ा से 12 मुलज़िमों को गिरफ्तार किया था. साथ ही, बिलकिस के परिवार वालों का शव बरामद करने के लिए जंगलों में खुदाई भी करवायी थी जहां से चार लोगों के कंकाल बरामद हो गए थे.

First published: 4 May 2017, 14:09 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी