Home » इंडिया » Hacker Syed Shuja claims that BJP try to hack EVM Machine in Rajasthan Madhya Pradesh and Chhatisgarh Assembly Election 2018
 

BJP ने MP, राजस्थान और छत्तीसगढ़ चुनाव में की थी EVM हैक करने की कोशिश- हैकर का दावा

कैच ब्यूरो | Updated on: 22 January 2019, 12:10 IST

अमेरिका में रहने वाले एक भारतीय हैकर के ईवीएम हैकिंग के दावे से देश में सियासी भूचाल आ गया है. हैकर ने दावा किया है कि राजस्‍थान, छत्‍तीसगढ़ और मध्य प्रदेश विधानसभा चुनावों में भी भाजपा ने ईवीएम हैक करने की कोशिश की थी. हैकर की पहचान सैयद शुजा के तौर पर हुई है.

हैकर सैयद शुजा ने स्काईप के जरिये लंदन में एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए दावा किया कि 2014 में वह भारत से पलायन कर गया था क्योंकि उसकी टीम के कुछ सदस्यों के मारे जाने की घटना के बाद वह डरा हुआ था. हैकर ने दावा किया कि रिलायंस जियो ने कम फ्रीक्वेंसी के सिग्नल पाने में भाजपा की मदद की थी ताकि ईवीएम मशीनों को हैक किया जा सके.

हैकर ने कहा कि भाजपा ने राजस्‍थान, छत्‍तीसगढ़ और मध्य प्रदेश विधानसभा चुनावों में ईवीएम हैक करने की कोशिश की थी, लेकिन उसकी टीम ने ट्रांसमिशन हैक करने की भाजपा की कोशिश को विफल कर दिया. उसने कहा कि इस वजह से तीनों राज्यों में कांग्रेस चुनाव जीती अन्यथा इस बार भी भाजपा ही चुनाव जीतती.

हैकर ने दावा किया कि वह सार्वजनिक क्षेत्र की इलेक्ट्रॉनिक कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड (ईसीआईएल) की टीम का हिस्सा थे. इसी टीम ने ईवीएम मशीन का डिजाइन तैयार किया था. शुजा ने दावा किया कि उन्होंने साल 2009 से साल 2014 तक ईसीआईएल में काम किया था. हैकर भारतीय पत्रकार संघ (यूरोप) की ओर से आयोजित एक संवाददाता सम्मेलन में शामिल हुआ था, हालांकि वह स्काईप के जरिये पर्दे पर ही नजर आया और उनके चेहरे पर नकाब था.

बता दें कि इससे पहले भी विपक्षी दल ईवीएम मशीन में धांधली का आरोप लगाते रहे हैं. कई दल मतपत्र से चुनाव की मांग कर चुके हैं. वहीं भारत के मुख्य निर्वाचन आयुक्त सुनील अरोड़ा ने इस महीने की शुरुआत में कहा था कि ईवीएम से छेड़छाड़ नहीं की जा सकती और इसके कार्यप्रणाली पर एक विशेषज्ञ समिति नजर रख रही है. अरोड़ा ने कहा कि सिस्टम को लेकर कोई संदेह नहीं होनी चाहिए. उन्होंने कहा कि ईवीएम की पूरी कार्यप्रणाली पर उच्च प्रशिक्षित योग्य तकनीकी समिति नजर रखे हुए है.

First published: 22 January 2019, 12:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी