Home » इंडिया » Handwara case: Girl repeats clean chit to army in CJM court
 

हंदवाड़ा में फिर लगा कर्फ्यू, इंटरनेट-मोबाइल सेवा बहाल

कैच ब्यूरो | Updated on: 18 April 2016, 16:20 IST

जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा जिले के हंदवाड़ा में एक बार फिर कर्फ्यू लगा दिया गया है. हंदवाड़ा में कर्फ्यू में ढील दिए जाने के दौरान विरोध प्रदर्शन शुरू हो गए. जिसके बाद प्रशासन ने वहां कर्फ्यू लगा दिया है.

हालांकि घाटी में मोबाइल और इंटरनेट सेवा को बहाल कर दिया गया है. सुबह 8 से 11 बजे के बीच कर्फ्यू में ढील दिए जाने के बाद हंदवाड़ा में कुछ युवकों ने पत्थरबाजी शुरू कर दी.

हंदवाड़ा के अलावा क्रलगुंड और त्रेहगाम इलाकों में प्रदर्शन किया गया. हालात पर काबू पाने के लिए सुरक्षाबलों को बल प्रयोग करना पड़ा.

पढ़ें:हंदवाड़ा:कथित छेड़खानी की शिकार छात्रा हिरासत में

छात्रा ने सेना को फिर दी क्लीन चिट

इस बीच हंदवाड़ा में छात्रा ने मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट की अदालत में अपना बयान दर्ज कराया. अपने बयान में एक बार फिर छात्रा ने कहा है कि उसके साथ सेना के किसी जवान ने छेड़छाड़ नहीं की थी.

सीजेएम कोर्ट में छात्रा की पेशी हुई. पुलिस की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि छात्रा ने अपने पिता की मौजूदगी में बयान दर्ज कराया.

handwara new

पुलिस के मुताबिक छात्रा ने बयान में कहा है कि 12 अप्रैल को जब वो अपनी सहेली के साथ स्कूल से घर लौट रही थी, तो हंदवाड़ा के मुख्य चौराहे पर एक सार्वजनिक शौैचालय में गई.

छात्रा के मुताबिक जब वो वहां से बाहर निकली तो दो लड़कों ने उसके साथ हाथापाई करते हुए उस पर हमला कर दिया. इस दौरान उसका बैग भी छीन लिया गया. छात्रा का कहना है कि एक लड़का स्कूल यूनिफॉर्म में था.

हालांकि शनिवार को छात्रा की मां ने विरोधाभासी बयान देते हुए सेना के जवान पर छेड़छाड़ का आरोप लगाया था.

पढ़ें:हंदवाड़ा विवाद: लड़की की मां का विरोधाभासी बयान, कहा सैनिक ने छेड़छाड़ की थी

girl handwara

महबूबा मुफ्ती ने अमन बहाली में मांगी मदद

इस बीच जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने राज्य के हालात सुधारने के लिए युवाओं से मदद की अपील की है. महबूबा ने कहा, " नौजवानों से गुजारिश है कि हमें जम्मू-कश्मीर में अमन बहाल करने में मदद करें. जहां नाइंसाफी होगी, वहां कड़ी कार्रवाई होगी "

इस बीच अलगाववादी संगठन हुर्रियत कॉन्फ्रेंस का कहना है कि छात्रा के सीजेएम कोर्ट में बयान के बावजूद पांच नागरिकों की मौत को झुठलाया नहीं जा सकता. हुर्रियत प्रवक्ता अयाज अकबर का कहना है कि इसकी आड़ में नागरिकों की हत्या के अपराध को छिपाया नहीं जा सकता.

जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा जिले में 12 अप्रैल को छात्रा से कथित छेड़छाड़ की घटना के बाद हिंसक प्रदर्शन हुए थे. इस दौरान हंदवाड़ा समेत कई जगहों पर सुरक्षाबलों की फायरिंग में पांच लोगों की मौत हो गई थी.

पढ़ें:हंदवाड़ा हिंसा: केंद्र भेजेगा 3,600 अतिरिक्त सुरक्षाबल

First published: 18 April 2016, 16:20 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी