Home » इंडिया » Harish Rawat: I thank Supreme Court, democratic forces, people of Uttarakhand
 

हरीश रावत: उत्तराखंड में अनिश्चितता के बादल छंटने की उम्मीद

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 May 2016, 13:37 IST

उत्तराखंड में बहुमत परीक्षण की प्रक्रिया पूरी होने के बाद हरीश रावत ने उम्मीद जताई है कि जल्द ही राज्य से अनिश्चितता के बादल छंट जाएंगे. हालांकि रावत ने बहुमत परीक्षण के नतीजे पर बोलने से इनकार किया.

हरीश रावत ने कहा,"मैं सुप्रीम कोर्ट, लोकतांत्रिक ताकतों, उत्तराखंड की जनता और ईश्वर का शुक्रिया अदा करना चाहता हूं. कल उत्तराखंड की जीत होगी."

SC Harish 3

शक्ति परीक्षण पर टिप्पणी से इनकार


रावत ने संवाददाताओं से बातचीत में कहा, "सदन के अंदर क्या हुआ, इस पर मैं कोई टिप्पणी नहीं करना चाहूंगा.मुझे उम्मीद है कि अनिश्चितता के बादल जल्द ही छंट जाएंगे."

पढ़ें:उत्तराखंड शक्ति परीक्षण: कांग्रेस ने किया बहुमत हासिल करने का दावा

हरीश रावत ने सियासी संकट खत्म होने की उम्मीद जताते हुए कहा,"राज्य से अनिश्चितता के बादल गायब हो जाएंगे, और कल चीजें ज्यादा साफ नजर आएंगी." 

कांग्रेस को 33 वोट !


इस बीच कांग्रेस की मुख्य सचेतक और राज्य की पूर्व वित्त मंत्री इंदिरा हृदयेश ने बहुमत परीक्षण के बाद कहा,"हमारी तरफ के 33 सदस्यों ने वोट दिया. मैं पीडीएफ, बहुजन समाज पार्टी और उत्तराखंड क्रांति दल को धन्यवाद देना चाहती हूं."

SC Harish 4

इससे पहले सदन में बहुमत परीक्षण की प्रक्रिया करीब एक घंटे तक चली. इस दौरान सदस्यों ने हाथ उठाकर वोट दिया. वहीं बहुमत परीक्षण से ठीक पहले बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने एलान किया कि उनकी पार्टी कांग्रेस का समर्थन करेगी.

कल खुलेगा सीलबंद लिफाफा


सुप्रीम कोर्ट ने आज विधानसभा में बहुमत परीक्षण का निर्देश दिया था. विधानसभा के प्रमुख सचिव बुधवार को सीलबंद लिफाफे में शक्ति परीक्षण का नतीजा अदालत को सौंपेंगे. वहीं कार्यवाही की वीडियो रिकॉर्डिंग भी कोर्ट में पेश होगी. 

पढ़ें:उत्तराखंड शक्ति परीक्षण: मायावती ने किया कांग्रेस के समर्थन का एलान

राज्य में 18 मार्च से सियासी संकट है. वित्त विधेयक पर विपक्ष और कांग्रेस के बागी विधायकों ने मत विभाजन की मांग की थी, जिसे स्पीकर ने खारिज कर दिया था. इसके बाद बागियों और विपक्ष ने हरीश रावत सरकार को बर्खास्त करने की मांग की थी.

हालांकि राज्यपाल ने रावत को बहुमत परीक्षण के लिए 28 मार्च तक का वक्त दिया था, लेकिन उससे ठीक एक दिन पहले 27 मार्च को राज्य में राष्ट्रपति शासन लगा दिया गया. 

पढ़ें:उत्तराखंड: बहुमत परीक्षण से पहले रेखा आर्य और भीमलाल आर्य ने बदला पाला

First published: 10 May 2016, 13:37 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी