Home » इंडिया » Haryana: gangrape from 13 year in temple accused arrested under POCSO act
 

कठुआ के बाद हरियाणा में मासूम के साथ मंदिर में गैंगरेप

कैच ब्यूरो | Updated on: 23 April 2018, 8:08 IST

देश में चाहे जितने ही कानून बनते जाएं लेकिन लेकिन अपराधियों में कानून का खौफ कहीं नजर नहीं आता. कठुआ और उन्नाव गैंगरेप की हाल की घटना के बाद देश में आक्रोश का माहौल था. केंद्र सरकार ने भी अध्यादेश लेकर इसके खिलाफ पॉक्सो एक्ट में जरुरी संशोधन भी किये. लेकिन अभी भी दारिंदगी थमने का नाम नहीं ले रही है.
हरियाणा के यमुनानगर में भी कठुआ जैसी शर्मनाक घटना सामने आई है.

हरियाणा के यमुनानगर में चार दरिंदों ने 13 साल की नाबालिग बच्ची को अगवाकर मंदिर परिसर में ले जाकर गैंगरेप किया. गैंगरेप के बाद हत्या के इरादे से बच्ची का सिर दीवार से दे मारा जिससे उसे गंभीर चोट आई है.

ये भी पढ़ें- बड़ा सवाल: क्या POCSO एक्ट में बदलाव से रुक जाएंगी रेप की बढ़ती घटनाएं

बच्ची के माता पिता किसी काम से बाहर गए थे. उसी समय गांव के दो बदमाश अपने दो साथियों के साथ घर में घुसे हैं और बच्ची को जबरन उठाकर मंदिर परिसर में ले जाकर गैंगरेप किया और उसके बाद हत्या की कोशिश की. दीवार में सिर मारने से बच्ची बेहोश हो गई जिसके बाद बदमाश मौके से फरार हो गए. बच्ची को जब होश आया तो वो जैसे तैसे घर पहुंची और घरवालों को सारी बात बताई.

पुलिस ने पूरे मामले में बच्चों के यौन उत्पीड़न के कानून पोक्सो के तहत मामला दर्ज कर लिया है. पुलिस उन चारों बदमाशों की तलाश में जुट गई है. ये घटना 17 अप्रैल की बताई जा रही है.

 

कल से ही लागू हुआ रेप के खिलाफ सख्त कानून

कल ही मोदी सरकार नबच्चियों के रेप के खिलाफ अब तक का सबसे सख्त कानून लेकर आई है. यह कानून कल यानी रविवार को राष्ट्रपति की मंजूरी के बाद ये से लागू हो गया है. इस कानून के तहत 12 साल से कम उम्र की बच्चियों के गैंगरेप के दोषियों को ताउम्र जेल की सजा होगी.

ये भी पढ़ें- मोदी सरकार ने POCSO एक्ट में किया बदलाव, रेप पर मिलेगी मौत की सजा

रेप के सभी केस की जांच दो महीने में पूरा करना जरुरी होगा. अपील को 6 महीने के भीतर निबटाना होगा. 16 साल से कम उम्र की बच्ची के रेप के केस में अग्रिम जमानत नहीं मिलेगी. रेप केस की सुनवाई के लिए नए फास्ट ट्रैक कोर्ट बनाए जायेंगे.

First published: 23 April 2018, 8:08 IST
 
अगली कहानी