Home » इंडिया » Haryana: Two ‘beef transporters’ forced to eat cow dung by gau rakshaks
 

हरियाणा में गौ रक्षकों की गुंडागर्दी, बीफ तस्करों को खिलाया गोबर

कैच ब्यूरो | Updated on: 28 June 2016, 13:33 IST
(इंडियन एक्सप्रेस)

गौ रक्षा के नाम पर देश में गुंडागर्दी थमने का नाम नहीं ले रही. राजस्थान के प्रतापगढ़ में बर्बर पिटाई के बाद अब हरियाणा में बीफ तस्करों को जबरन गोबर खिलाने का मामला सामने आया है.

कुंडली मानेसर पलवल हाईवे पर पकड़े गए तस्करों के साथ जिस तरह का सलूक किया गया, वो हैरान कर देने वाला है. दोनों तस्करों के साथ बेरहमी का एक वीडियो सामने आया है, जिसमें उन दोनों को गोबर खाने को मजबूर किया जा रहा है.

10 जून की घटना

बताया जा रहा है कि घटना 10 जून की है, लेकिन वीडियो सामने के बाद इस पर हंगामा मच गया है. इसमें दो लोगों को जबरन गाय का गोबर खिलाने के साथ ही गोमूत्र और दूध पिलाया जा रहा है.

आरोप है कि दोनों लोगों के साथ गौ रक्षक दल के सदस्‍यों ने ऐसा किया. वहीं गुड़गांव गौ रक्षक दल के अध्‍यक्ष धर्मेंद्र यादव ने बताया कि उन्‍होंने दो लोगों रिजवान और मुख्तियार को 10 जून को पंचगव्‍य खिलाया.

धर्मेंद्र यादव का कहना है कि गौ रक्षक दल को खबर मिली कि दो लोग बीफ लेकर जा रहे हैं. इसके बाद कार्यकर्ताओं ने कुंडली-मानेसर-पलवल एक्‍सप्रेस वे पर गाड़ी को रोका.

आरोप है कि 700 किलो बीफ मेवात से दिल्‍ली ले जाया जा रहा था. धर्मेंद्र ने माना है कि उनके दल ने रिजवान और मुख्तियार नाम के दोनों युवकों को गाय के गोबर, गोमूत्र, दूध, दही और घी का मिश्रण खाने के लिए मजबूर किया था.  

युवकों से जबरन लगवाए नारे

धर्मेंद्र यादव का साथ ही कहना है, "हमने बीफ से भरी कार का तकरीबन सात किलोमीटर तक पीछा किया, जिसके बाद बदरपुर बॉर्डर के पास उसे पकड़ लिया.

गाड़ी की तलाशी लेने पर हमें पता चला कि उसमें 300 किलो बीफ था. इसके बाद हमने उन्हें सबक सिखाने के लिए पंचगव्य खिलाया और उनका शुद्धिकरण किया."

वीडियो में दिखाई दे रहा है कि दो लोग सड़क के किनारे गोबर के मिश्रण को सामने रख कर बैठे हैं और पानी की मदद से उसे जैसे तैसे खाने की कोशिश कर रहे हैं.

गौ रक्षक दल की गुंडागर्दी यहीं नहीं खत्म हुई. इस दौरान उन्हें ‘गौ माता की जय’ और ‘जय श्री राम’ के नारे लगाने को कहा गया. बेबस दोनों युवकों को जबरन मिश्रण निगलवाते हुए नारे लगवाए गए.

'वीडियो सही होने पर केस'

इस बीच फरीदाबाद पुलिस के जनसंपर्क अधिकारी (पीआरओ) सूबे सिंह का कहना है, "पुलिस को वीडियो के बारे में कोई जानकारी नहीं है. हमें नहीं पता कि यह घटना कहां हुई. इसमें कौन शामिल है. पुलिस की मौजूदगी में ऐसा नहीं हुआ है. वीडियो अगर सही निकला, तो केस दर्ज होगा."

सूबे सिंह ने कहा, "10 जून को गौ रक्षा दल के सदस्यों ने दो लोगों को पकड़ा था. दिल्ली के नंबर वाली कार में 300 किलो बीफ लाया जा रहा था. फरीदाबाद के सेक्टर-37 थाना इलाके में उनको पकड़ा गया था. बल्लभगढ़ से आ रही कार दिल्ली की तरफ जा रही थी."

फरीदाबाद पुलिस को सौंपा

सूबे सिंह के मुताबिक उन्हें गुड़गांव के बिलासपुर पुलिस स्टेशन में ले जाया गया. बाद में उन्हें न्यायाधिकार क्षेत्र की वजह से फरीदाबाद पुलिस को सौंप दिया गया. सेक्टर 37 पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार करते हुए गोवध अधिनियम के तहत केस दर्ज किया. 

बाद में उन्हें अदालत में पेश करने के बाद न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया. प्रयोगशाला जांच में इस बात की पुष्टि हुई है कि वे 300 किलो बीफ लेकर जा रहे थे. जरूरी इजाजत लेने के बाद बीफ को नष्ट कर दिया गया.

First published: 28 June 2016, 13:33 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी