Home » इंडिया » After surgical operation heavy shelling from Pakistan along LoC continues, villagers migrating
 

पाकिस्तान की भारी फायरिंग के बाद एलओसी पर ग्रामीणों का बढ़ा पलायन

कैच ब्यूरो | Updated on: 5 October 2016, 15:15 IST
(एएनआई)

सर्जिकल स्ट्राइक के बाद से पाकिस्तान की ओर से संघर्षविराम तोड़ने का सिलसिला टूटता नजर नहीं आ रहा. नियंत्रण रेखा के पास पाकिस्तान की तरफ से भारी फायरिंग की गई है. बताया जा रहा है कि पिछले दो दिन में पाकिस्तान ने सातवीं बार युद्धविराम को तोड़ा है.

जम्मू के राजौरी में नौशेरा सेक्टर के पास पाकिस्तान ने भारतीय सैन्य चौकियों पर जबरदस्त गोलाबारी की. इस दौरान आबादी वाले इलाकों में भी मोर्टार दागे गए. ग्रामीणों ने मोर्टार के टुकड़े दिखाए. वहीं भीषण फायरिंग के बाद कई जगह जमीन में गड्ढे हो गए. 

भारतीय समयानुसार बुधवार दोपहर 12 बजकर 10 मिनट पर पाकिस्तान की ओर से मोर्टार हमले किए गए. जिसके बाद से नियंत्रण रेखा के पास रहने वाले ग्रामीणों में दहशत देखी जा रही है.

पाकिस्तान के भारी मोर्टार हमले से कुछ गांवों की जमीन में गड्ढे भी हो गए हैं. (एएनआई)

नियंत्रण रेखा के करीब बढ़ा पलायन

पाकिस्तान की तरफ से की जा रही फायरिंग में अभी किसी के मारे जाने की खबर नहीं है, लेकिन इससे सीमावर्ती इलकों में रहने वाले नागरिकों की मुश्किल बढ़ गई है.

वहीं पाकिस्तान की गोलाबारी से फसलों के तबाह होने की संभावना भी बढ़ गई है. डीजीएमओ के मुताबिक भारतीय सेना ने 29 सितंबर को पीओके में घुसकर सर्जिकल ऑपरेशन किया था. इसके बाद से ही नियंत्रण रेखा पर भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव बढ़ गया है.   

इस बीच पाकिस्तान की ओर से लगातार जारी गोलीबारी के बाद नियंत्रण रेखा के पास से ग्रामीणों का बड़े पैमाने पर पलायन हो रहा है. नागरिकों को फसल के साथ ही अपने मवेशियों की भी चिंता सता रही है.

एलओसी के पास ग्रामीणों के मकान पर पाकिस्तानी गोलाबारी के निशान. (एएनआई)

नियंत्रण रेखा के पास अखनूर सेक्टर में भारी फायरिंग के बाद इलाके के लोग पलायन कर रहे हैं. अखनूर में एलओसी के करीब रहने वाली एक महिला का कहना है, "हमने केवल एक बैग लेकर अपना घर छोड़ दिया. हम अपने रिश्तेदारों के साथ रह रहे हैं. जो कुछ भी उनके पास है उसी से गुजारा हो रहा है. बच्चों का स्कूल जाना भी छूट गया है."

अखनूर के ही एक और ग्रामीण का कहना है, "हम अपने मवेशियों और फसलों के साथ जिंदगी भी पीछे छोड़ आए हैं. लेकिन अब युद्ध जैसे हालात बन रहे हैं. यह सब खत्म होना चाहिए."

First published: 5 October 2016, 15:15 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी