Home » इंडिया » Hi-Tech thief in chennai, used google map for searching rich people home
 

Hi-Tech चोर का जलवा, Google Maps से खोजता था रईस लोगों का घर, हवाई-जहाज से जाता था चोरी करने

कैच ब्यूरो | Updated on: 4 December 2018, 12:10 IST
(प्रतीकात्मक तस्वीर)

चोरी के कई हैरान करने वाले कारनामे सामने आते रहते हैं. लेकिन इस बार जिस हाई-टेक तरीके से चोर ने कुछ लोगों के घरों को निशाना बनाया है वो हैरान करने वाला है. ये शातिर चोर मॉडर्न तकनीकी का पूरा इस्तेमाल करते हुए चोरी को अंजाम देता है. ये चोर गूगल मैप की सहायता से शहर के पॉश इलाकों का पता लगाता था. फिर उस इलाके में पहुंच कर पूरे इलाके की रेकी करता था. उस इलाके की सुरक्षा व्यवस्था, सीसीटीवी, भागने का रास्ता इत्यादि अच्छे से पता करता था. इतना ही नहीं सबसे ज्यादा हैरान करनी वाली बात ये है कि चोरी करने के लिए एक शहर से दूसरे शहर तक ये चोर हवाई जहाज से जाता था.

ये चोर इतना शातिर थे कि कोई भी सबूत नहीं छोड़ता था. लेकिन पुलिस ने आखिरकार तहकीकात के बाद इस हाईटेक चोर को पकड़ लिया. पुलिस ने इस चोर को हैदराबाद से गिरफ्तार किया. गौरतलब है कि इस हाईटेक चोर का खुलासा तब हुआ जब अपोलो अस्पताल में काम करने वाले नंगमबक्कम के डॉक्टर के घर पर चोरी हुई. पिछले महीने इस डॉक्टर के यहां पर चोरी हुई थी. लेकिन चोर इतना शातिर था की पुलिस उसे पकड़ नहीं पाई.

चोरी की ऐसी की एक वारदात और हुई लेकिन पुलिस उसमे भी चोर को पकड़ने में नाकामयाब रही. इस बीच आंध्र प्रदेश का एक चोर साथिया रेड्डी तेलंगाना में गिरफ्तार किया गया. हैदराबाद पुलिस ने इसे एक चोरी के मामले में हिरासत में लिया था. पुलिस ने हिरासत में साथिया से पूछताछ की तो उसके होश उड़ गए. साथिया दरअसल वही शातिर चोर है जिसकी पुलिस काफी समय से तलाश कर रही थी.

ये भी पढ़ें- सरकारी निगरानी में भी सुरक्षित नहीं लड़कियां, दिल्ली स्थित आश्रम से 9 बच्चियां गायब

पुलिस की पूछताछ में पता चला कि साथिया रेड्डी वही शातिर चोर है जिसने नंगमबक्कम और वैल्लुवर कोट्टम में चोरी की थी. हिरासत में हुई पूछताछ के बाद साथिया ने पुलिस को बताया कि उसने पहले गूगल मैप्स के जरिये चेन्नई के रईश इलाके खोजे. हैरानी की बात ये थी कि चोरी करने के लिए वो फ्लाइट से चेन्नई पहुंचा. फिर उसने चुने इलाके के उन घरों को निशाना बनाया जहां पर ताला लगा हुआ था. ये हाई-टेक चोर मास्क और ग्लव्स का इस्तेमाल करता था. जिस कारण से पुलिस को न तो फिंगरप्रिंट मिल सकते थे और न ही सीसीटीवी फुटेज में उसका चेहरा पहचान में आता.

First published: 4 December 2018, 12:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी