Home » इंडिया » 'Highly productive' Monsoon session ends; GST was highlight
 

मानसून सत्र समाप्त, जीएसटी सरकार की सबसे बड़ी उपलब्धि

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 February 2017, 5:48 IST

संसद के ऊपरी सदन राज्यसभा और निचले सदन लोकसभा की कार्यवाही शुक्रवार को अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दी गई. इसके साथ 18 जुलाई को शुरू हुए मॉनसून सत्र का समापन हो गया. इस मानसून सत्र में जीएसटी विधेयक का पारित होना सरकार की सबसे बड़ी उपलब्धि रही. 

लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने बताया कि  सत्र के दौरान 14 सरकारी विधेयक पेश किए गए और 13 विधेयक पारित हुए. मानसून सत्र के आखिरी दिन कश्मीर के ताजा हालात पर एक प्रस्ताव पारित किया गया. सांसदों ने पिछले एक महीने से कश्मीर में जारी कर्फ्यू और हिंसा पर अपनी चिंता जाहिर की. कश्मीर पर पारित प्रस्ताव में कहा गया कि भारत की एकता, अखंडता और राष्ट्रीय सुरक्षा पर कोई समझौता नहीं हो सकता.

ऐतिहासिक जीएसटी संविधान संशोधन बिल संसद से पास

मंगलवार को जीएसटी बिल लोकसभा में भी सर्वसम्‍मति से पास हो गया. इससे पहले तीन अगस्त को राज्यसभा ने जीएसटी यानी वस्तु एवं सेवा कर बिल के लिए लाए गए संविधान संशोधन बिल को पास कर चुकी है. इसके अलावा गुरुवार को मेटरनिटी बेनिफिट (संशोधन) बिल, 2016 राज्यसभा से भी पास हो गया है. कानून बनने पर कामकाजी महिलाओं को मां बनने पर 26 हफ्ते की छुट्टी मिलेगी. इससे संगठित क्षेत्र में 18 लाख महिला कर्मचारियों लाभ होगा.

लोकसभा अध्यक्ष ने बताया कि इस सत्र में चिकित्सा परिषद संशोधन विधेयक 2016, दंत चिकित्सक संशोधन विधेयक 2016, बाल श्रम रोकथाम एवं नियमन संशोधन विधेयक 2016, बेनामी लेनदेन रोकथाम विधेयक 2015, ऋण वसूल से संबंधित संशोधन विधेयक, कर्मचारी मुआवजा संशोधन विधेयक, कराधान संशोधन विधेयक और कारखाना संशोधन विधेयक 2016 जैसे बिल पास हुए हैं.

इस दौरान 84 निजी विधेयक पेश किए गए और वहीं कुछ विधेयकों पर विचार-विमर्श हुआ. सत्र के दौरान आंध्र प्रदेश को विशेष दर्जा देने संबंधी कांग्रेस के केपीवी रामचंद्र राव के निजी विधेयक पर भी चर्चा हुई. 

कश्मीर और दलितों के खिलाफ हुई हिंसा पर चर्चा

सत्र के दौरान नियम 193 के तहत कश्मीर घाटी में हाल की हिंसा, महंगाई, टिकाऊ विकास लक्ष्य और दलितों पर अत्याचार जैसे विषयों पर चर्चा हुई. इस पर सरकार की ओर मंत्रियों ने जवाब दिए. गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने दो बार राज्यसभाा में कश्मीर के हालात पर बयान दिया. सत्र के दौरान ध्यानाकषर्ण प्रस्ताव के माध्यम से दो विषय उठाए गए. इसमें महानदी पर छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा बांध बनाने से ओडिशा के हिराकुंड बांध में पानी का प्रवाह कथित तौर पर प्रभावित होने और देश में इंसेफेलाइटिस का प्रभाव शामिल है. 

राज्यसभा में 59 नए सांसद

सत्र के दौरान 59 नवनिर्वाचित, पुनर्निर्वाचित या मनोनीत सदस्यों ने सदन की सदस्यता की शपथ ली. सत्र के दौरान सदस्यों ने शून्यकाल में लोकमहत्व के 123 मुद्दे उठाए जिनमें से 21 पर मंत्रियों ने जवाब भी दिए. वहीं लोकसभा में सांसदों ने लोक महत्व के 618 विषयों को उठाया. सदन में स्थायी समिति की 32 रिपोर्ट भी पेश की गई. 

सत्र के पहले दिन राज्यसभा से सिद्धू ने दिया इस्तीफा

18 जुलाई को बीजेपी सांसद नवजोत सिंह सिद्धू ने राज्यसभा से इस्तीफा दे दिया. उसी दिन सभापति ने सिद्धू का इस्तीफा स्वीकार भी कर लिया. सिद्धू के आम आदमी पार्टी में जाने की चर्चा है. सिद्धू ने 2014 के लोकसभा चुनाव में अमृतसर लोकसभा सीट अरुण जेटली के लिए छोड़ी थी, तब से वह पार्टी से नाखुश थे.

First published: 12 August 2016, 4:17 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी