Home » इंडिया » Himachal pradesh: Dalit students in school told to sit outside in cattle house, watch PM Modi’s ‘Pariksha par Charcha’
 

शर्मनाक: ‘परीक्षा पर चर्चा’ कार्यक्रम के दौरान दलित छात्रों को घोड़ों के अस्तबल में बिठाया

कैच ब्यूरो | Updated on: 19 February 2018, 10:27 IST

प्रधानमंत्री मोदी शुक्रवार (17 फरवरी) को देश भर में 10वीं और 12वीं बोर्ड की परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्र-छात्राओं से मुखातिब हुए थे. उन्‍होंने छात्रों को परीक्षा की तैयारी और उसके तनाव से निपटने के लिए महत्‍वपूर्ण बातें बताई थीं. इस दौरान हिमाचल के कुल्लू जिले से इसी कार्यक्रम से शर्मसार करने वाली खबर सामने आई है.

इंडियन एक्सप्रेस की खबर के अनुसार, हिमाचल प्रदेश के कुल्लू जिले में एक सरकारी हाई स्कूल के छात्रों ने आरोप लगाया है कि पीएम मोदी की ‘परीक्षा पर चर्चा’ के प्रसारण के दौरान उन्हें बाहर घोड़ों के अस्तबल में बिठाया गया. छात्रों ने शिकायत की कि जहां घोड़े बांधे जाते हैं हमें वहां बिठाया गया.

 

घटना कुल्लू के चेष्ठा ग्राम पंचायत की है, जहां स्कूल प्रबंधक ने शुक्रवार को अपने घर पर ही पीएम की चर्चा का प्रसारण दिखाने की व्यवस्था की थी. कुछ छात्रों ने शिकायत की उन्हें मेहरचंद नामक टीचर ने उस कमरे से बाहर जाने को कहां, जहां टीवी पर प्रसारण दिखाया जा रहा था. वह दलित छात्र थे.

दलित छात्रों ने आरोप लगाया कि हमें बाहर उस स्थान पर बैठने को कहा गया, जहां घोड़े रखे जाते हैं. यही नहीं यह चेतावनी भी दी गई, कि वे वहीं बैठे रहें और कार्यक्रम के बीच में छोड़कर नहीं जाना है. छात्रों ने आरोप लगाया है कि उनसे स्कूल के मिड डे मील कार्यक्रम में भी जातिगत भेदभाव किया जाता है.

 

छात्रों ने शिकायत में लिखा है, ‘अनुसूचित जाति के छात्रों को अलग बैठने को कहा जाता है. हेडमास्टर भी इस पर कुछ नहीं कहते. हमें छूअाछूत और भेदभाव का शिकार होना पड़ता है.’

इस घटना का एक कथि‍त वीडियो क्लिप सामने आने के बाद एक स्थानीय संगठन अनुसूचित जाति कल्याण संघ ने स्कूल के हेडमास्टर राजन भारद्वाज और कुल्लू में शिक्षा विभाग के डिप्टी डायरेक्टर जगदीश पठानिया के यहां शिकायत दर्ज की है.

संगठन के एक सदस्य ने कहा कि प्रधानाचार्य राजन भारद्वाज ने इस घटना की पुष्ट‍ि की है और माफी मांगी है. उन्होंने यह आश्वासन दिया है कि आगे ऐसा नहीं होगा. लेकिन इससे बात नहीं बनने वाली.

First published: 19 February 2018, 10:27 IST
 
अगली कहानी