Home » इंडिया » hindu mahasabha criticising the iftar party organised by rss
 

हिंदू महासभा ने मुस्लिम राष्ट्रीय मंच की इफ्तार पार्टी को बताया तुष्टीकरण

कैच ब्यूरो | Updated on: 30 June 2016, 13:44 IST
(हिंदू महासभा )

अखिल भारत हिंदू महासभा ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) से जुड़े माने जाने वाले मुस्लिम राष्ट्रीय मंच की दो जुलाई को प्रस्तावित इफ्तार पार्टी पर हमला किया है.

महासभा ने आरोप लगाया है कि इफ्तार पार्टी के बहाने आरएसएस, मुस्लिमों का तुष्टीकरण कर रहा है. इसके साथ ही संगठन ने इस आयोजन को रद्द करने और हिंदुओं से माफी मांगने की मांग की है.

अखिल भारत हिंदू महासभा ने कहा, "केशव हेडगेवार ने हिंदुओं के हितों की रक्षा के लिए ही संघ की स्थापना की थी, लेकिन यह संगठन अब हेडगेवार के विचारों से हटते हुए मुस्लिमों के हितों का तुष्टीकरण कर रहा है, जिसके लिए उसे सारे हिंदुओं से माफी मांगनी चाहिए."

संगठन के महासचिव मुन्ना कुमार शर्मा और कार्यालय सचिव वीरेश त्यागी ने इस मामले में एक बयान जारी किया है. इसमें कहा गया है, "अब संघ ने हिंदू हितों के काम छोड़ दिये हैं और वह लगातार मुस्लिम हितों की बात कर रहा है.

इसके लिए संघ अपने विचारों से हटते हुए मुस्लिमों के लिए इफ्तार पार्टियों का आयोजन कर रहा है, लेकिन संघ कभी नवरात्र व्रत और अन्य उत्सवों पर हिंदुओं के लिए इस तरह का आयोजन नहीं करता है."

संगठन के बयान में कहा गया है, "यह समझा जाएगा कि संघ अपने संस्थापकों के दिखाये रास्ते से पूरी तरह से अलग हो चुका है. हम आरएसएस से अनुरोध करते हैं कि वह अपनी इफ्तार पार्टी को रद्द करे और इस गलती के लिए पूरे देश के हिंदुओं से माफी मांगे."

हालांकि आरएसएस विचारक राकेश सिन्हा का कहना है कि मुस्लिम राष्ट्रीय मंच से संघ का कोई लेना-देना नहीं है. मुस्लिम राष्ट्रीय मंच को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से मान्यता प्राप्त संगठन माना जाता है.

इसका गठन दिसंबर 2002 में तत्कालीन आरएसएस प्रमुख केएस सुदर्शन की पहल के बाद किया गया था. संगठन का उद्देश्य ज्यादा से ज्यादा मुस्लिमों तक पहुंच बनाना है. वरिष्ठ आरएसएस नेता इंद्रेश कुमार इसके मार्गदर्शक हैं.

First published: 30 June 2016, 13:44 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी