Home » इंडिया » Hindu woman create history contests in pakistan general election 2018
 

पाकिस्तान के चुनाव में इस हिंदू महिला का जलवा, पहली बार कोई दे रहा मुस्लिमों को चुनौती

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 July 2018, 11:52 IST

पाकिस्तान में 25 जुलाई को आम चुनाव होने हैंं. इस चुनाव में एक जो सबसे खास बात देखने को मिल रही है वह है एक हिंदू महिला का चुनाव में भाग लेना. पाकिस्तान के सिंध प्रांत से पहली बार एक हिन्दू महिला प्रांतीय असेंबली चुनाव में किस्मत आजमाएंगी. यहां पर इनका खूब जलवा देखने को मिल रहा है.

मुस्लिम बाहुल्य पाकिस्तान में पहली बार हिंदू समुदाय की किसी महिला ने चुनाव लड़कर इतिहास रचा है. मेघवार समुदाय की 31 वर्षीय हिंदू महिला सुनीता परमार ने थारपरकर जिले के सिंधु असेंबली निर्वाचन क्षेत्र पीएस -56 के लिए निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर नामांकन भरा है.

 

बता दें कि पाकिस्तान में सबसे ज्यादा हिंदू इसी जिले में रहते हैं. चुनाव को लेकर सुनीता परमार आत्मविश्वास से भरी हैं. उनका कहना है कि उन्होंने चुनाव लड़ने का फैसला इसलिए किया क्योंकि पूर्व की सरकारें उनके निर्वाचन क्षेत्र के लोगों से किए गए वायदों को पूरा करने और उनका जीवन स्तर सुधारने में असफल रहीं.

सुनीता का कहना है कि उनका मकसद क्षेत्र की समस्या को सुलझाना है. यहां महिलाओंं को पीने के पानी के लिए कई मील पैदल जाना पड़ता है. परमार ने कहा, "पिछली सरकारों ने इस इलाके के लिए कुछ भी नहीं किया. 21वीं शताब्दी में रहने के बावजूद महिलाओं के लिए मूल स्वास्थ्य सुविधाएं और शैक्षणिक संस्थान नहीं हैं." 

पढ़ें- पाकिस्तान: चुनाव जीतने के लिए हाफिज सईद की गीदड़ भभकी, दी भारत पर परमाणु हमले की धमकी

उन्होंने कहा कि वे दिन गए जब महिलाओं को कमजोर और कमतर आंका जाता था. सुनीता ने कहा कि मैं इन चुनावों को जीतने को लेकर आश्वस्त हूं. यह 21वीं सदी है और हम शेर से भी लड़ने के लिए तैयार हैं. बता दें कि इससे पहले मार्च में एक अन्य हिंदू दलित महिला कृष्णा कुमारी कोल्ही पाकिस्तान की पहली महिला सीनेटर बनी थीं.

First published: 7 July 2018, 11:52 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी