Home » इंडिया » Home Minister Rajnath Singh gave official statement on Una incident in Lok Sabha
 

ऊना मामला: राजनाथ का संसद में बयान, दलितों पर अत्याचार सामाजिक बुराई

कैच ब्यूरो | Updated on: 20 July 2016, 13:36 IST
(लोकसभा टीवी)

केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने गुजरात के ऊना में दलितों की पिटाई के मामले पर लोकसभा में बयान दिया. इस दौरान राजनाथ ने कहा कि देश के किसी भी हिस्से में दलितों की पिटाई या उत्पीड़न होना दुर्भाग्यपूर्ण है.

केंद्रीय गृह मंत्री ने इस दौरान सिलसिलेवार तरीके से 11 जुलाई को पिटाई का मामला सामने आने के बाद से अब तक उठाए गए कदमों का ब्यौरा दिया. राजनाथ ने यह भी कहा कि पीएम मोदी इस घटना से आहत हैं और उन्होंने 12 जुलाई को विदेश से फोन पर उनसे बात की थी. 

बयान के दौरान हंगामा

हालांकि राजनाथ सिंह के बयान के दौरान संसद में बार-बार विपक्षी सांसदों ने हंगामा मचाया. इसके बाद राजनाथ ने अपील की कि पहले उन्हें बयान दे लेने दें फिर बाकी सांसदों को भी बोलने का मौका मिलेगा.

पढ़ें: ऊना में दलितों की पिटाई के मामले पर संसद में हंगामा

बयान के आखिर में जब राजनाथ सिंह ने मामले में तेज कार्रवाई के लिए गुजरात सरकार को बधाई देने की बात कही, तो कांग्रेस सांसदों ने एक बार फिर हंगामा मचाया. विपक्षी सदस्यों का शोर उस वक्त और तेज हो गया जब गृह मंत्री ने नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो के आंकड़ों का हवाला देते हुए कहा कि कांग्रेस शासन के मुकाबले मोदी सरकार आने के बाद दलितों पर उत्पीड़न के मामले कम हुए हैं.

ऊना पर लोकसभा में राजनाथ सिंह का बयान

  • 11 जुलाई को पिटाई का मामला सामने आया.
  • मृत जानवरों की चमड़ी निकाल रहे थे कुछ लोग.
  • हथियारों और एलुमिनियम रॉड से पीड़ितों की पिटाई हुई.
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस दुर्भाग्यपूर्ण घटना से आहत.
  • 12 जुलाई को पीएम मोदी ने फोन पर मुझसे बात की.
  • उस दौरान विदेश दौरे पर गए हुए थे पीएम मोदी.
  • ऊना थाने में दर्ज किया गया मामला.
  • अब तक कुल नौ लोगों की हुई गिरफ्तारी.
  • चार पुलिसकर्मियों के खिलाफ हुई कार्रवाई.
  • दलितों पर किसी भी राज्य में अत्याचार दुर्भाग्यपूर्ण.
  • दलितों पर अत्याचार एक सामाजिक बुराई.
  • सबको एकजुट होकर इसे दूूर करना होगा.
  • मामले की जांच सीआईडी क्राइम ब्रांच को सौंपी गई.
  • स्पेशल कोर्ट के लिए हाईकोर्ट से बात हो रही है.
  • सभी पीड़ितों के इलाज का खर्च सरकार उठा रही है.
  • पीड़ितों को चार-चार लाख रुपये मुआवजे का एलान.
  • गुजरात सरकार ने घटना के बाद तेजी से एक्शन लिया.
  • तेजी से कार्रवाई के लिए गुजरात सरकार को बधाई.
  • ऊना मामला दुर्भाग्यपूर्ण, कठोर शब्दों में निंदा.
  • कांग्रेस राज में दलितों पर ज्यादा अत्याचार के मामले.
  • मोदी सरकार आने के बाद कम हुए उत्पीड़न के मामले.
  • नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो के आंकड़ों का हवाला.      

पढ़ें: गुजरात: दलितों के इस प्रदर्शन में लंबे समय की कुंठा और निराशा छिपी है                                             

First published: 20 July 2016, 13:36 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी