Home » इंडिया » hs phoolka demand to govt return bharat ratna from rajiv gandhi for sikh riots
 

आप नेता एचएस फुल्का की मांग, ‘सिख विरोधी’ राजीव गांधी से वापस लो भारत रत्न

कैच ब्यूरो | Updated on: 21 August 2016, 13:28 IST
(एजेंसी)

आम आदमी पार्टी के नेता और सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील एचएस फुल्का ने मोदी सरकार से मांग की है कि पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या के बाद हुए सिख दंगों के मामले में कथित तौर पर नकारात्मक बयान देने वाले भारत के पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी से भारत रत्न वापस लें.

शनिवार को एचएस फुल्का ने कहा कि साल 1984 में हुए बड़े पैमाने पर सिखों के नरसंहार के लिए पूर्व पीएम राजीव गांधी ही जिम्मेदार थे.

अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए फुल्का ने साल 1984 में राजीव गांधी के उस बयान का भी जिक्र किया, जिसमें राजीव गांधी ने कहा था, "जब भी कोई बड़ा पेड़ गिरता है तो धरती हिलती है."

फुल्का ने कहा कि जिस पीएम की नीयत एक विशेष समुदाय के साथ ऐसी रही हो उसे भारत रत्न दिया ही नहीं जाना चाहिए था.

गौरतलब है कि पंजाब में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं और वहां का सिख समुदाय कांग्रेस पार्टी से इस वजह से नाराज था, क्योंकि पार्टी ने अपने वरिष्ठ नेता कमलनाथ को पंजाब का प्रभारी बनाया था.

हालांकि, वरिष्ठ नेता कमलनाथ ने मुद्दे की गंभीरता को समझते हुए खुद ही प्रभारी पद से इस्तीफा दे दिया था.

कांग्रेसी नेता कमलनाथ पर दिवंगत एचकेएल भगत, जगदीश टाइटलर और सज्जन कुमार के साथ साल 1984 में हुए सिख दंगों में शामिल होने का आरोप है.

वहीं, शनिवार यानी पूर्व पीएम राजीव गांधी की जयंती पर पश्चिम बंगाल कांग्रेस के एक ट्वीट ने पार्टी के सामने विकट समस्या पैदा कर दी.

इस ट्वीट में 1984 के दंगों के दौरान दिए गए राजीव गांधी के उसी विवादित बयान को ट्वीट किया गया था. जिसका जिक्र फुल्का कर रहे थे.

हालांकि बाद में जब मामले ने तूल पकड़ा तो उस ट्वीट को हटा दिया गया. लेकिन कांग्रेस नेताओं को इस भारी भूल पर कोई प्रतिक्रिया नहीं सूझ रही है.  

First published: 21 August 2016, 13:28 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी