Home » इंडिया » hurriyat leader geelani arrested by j&k police
 

कश्मीर में अलगाववादी नेता अली शाह गिलानी और उमर फारूक गिरफ्तार

कैच ब्यूरो | Updated on: 13 July 2016, 16:49 IST
(पीटीआई)

जम्मू-कश्मीर पुलिस ने अलगाववादी संगठन हुर्रियत कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष सैयद अली शाह गिलानी और वरिष्ठ नेता मीरवाइज उमर फारूक को गिरफ्तार कर लिया.

पुलिस के मुताबिक गिलानी ने हैदरपुर में कर्फ्यू के प्रतिबंधों का उल्लंघन किया और शहर के निचले इलाके में शहीदों के कब्रिस्तान तक मार्च निकालने की कोशिश की, जिसके बाद उन्हें पुलिस के द्वारा हिरासत में ले लिया गया है.

बताया जा रहा है कि गिलानी पहले से ही नजरबंद थे और उन्हें पुलिस ने हैदरपोर में उनके आवास के बाहर हवाई अड्डा मार्ग से हिरासत में ले लिया. गिलानी और उमर फारूक के साथ कुछ अन्य नेताओं को भी हिरासत में लिया गया है.

वहीं दूसरी ओर पंपोर और कुपवाडा शहरों समेत कश्मीर घाटी के कई हिस्सों में अभी भी कर्फ्यू जारी है और लोगों की आवाजाही पर प्रतिबंध लगा हुआ है. प्रदर्शनकारियों और सुरक्षा बलों के बीच झड़पों में मरने वालों की संख्या बढ़कर 34 हो गई है.

अधिकारियों ने झड़पों में सात और लोगों की मौत की पुष्टि की है. हिजबुल कमांडर बुरहान वानी की मुठभेड़ में मौत के बाद शुक्रवार शाम को हिंसक प्रदर्शनों का सिलसिला शुरू हुआ था.

पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, "मृतक संख्या अब बढकर 34 हो चुकी है और इसमें भीड़ की हिंसा में मारा गया एक पुलिसकर्मी भी शामिल है. इसमें एक घायल नागरिक भी है, जिसकी एसकेआईएमएस अस्पताल में आज इलाज के दौरान मौत हो गई."

सूचना के मुताबिक मुश्ताक अहमद डार कुलगाम जिले के खुदवानी में शनिवार को घायल हो गया था. पुलिस अधिकारी ने बताया कि ज्यादातर मौतें शनिवार को ही हुईं.

उस दिन भीड़ ने पुलिस और दक्षिण कश्मीर में सुरक्षा प्रतिष्ठानों पर हमला किया था. लेकिन सभी मौतों की वजहों का पता नहीं लगाया जा सका, क्योंकि हिंसक हालात के चलते एजेंसियां जानकारी नहीं जुटा सकीं.

इस मामले में कश्मीर के मंडलायुक्त असगर समून ने बताया था कि झडपों में मरने वाले नागरिकों की संख्या 22 है. हालिया आंकडों के मुताबिक घाटी में सबसे ज्यादा 16 लोगों की मौतें अनंतनाग जिले में हुईं.

हिंसा के बाद पंपोर, कुपवाडा और अनंतनाग समेत घाटी के कई हिस्सों में कर्फ्यू जारी है. शेष घाटी में लोगों की आवाजाही पर प्रतिबंध लगे हुए थे.

सुरक्षा बलों की कार्रवाई के दौरान नागरिकों की मौतों का विरोध करने के लिए अलगाववादियों ने बंद आयोजित किया है. इसके चलते आज लगातार पांचवें दिन भी सामान्य जनजीवन प्रभावित रहा.

हिंसक घटनाओं के मद्देनजर घाटी में मोबाइल इंटरनेट और रेल सेवाएं अब भी निलंबित हैं, वहीं कल प्रदर्शनों के दौरान एक युवक की मौत के बाद कुपवाड़ा इलाके में मोबाइल फोन सेवा बंद कर दी गई है.

First published: 13 July 2016, 16:49 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी