Home » इंडिया » Dilsukhnagar blast case: Yasin Bhatkal & 4 others sentenced to death by Hyderabad court
 

हैदराबाद ब्लास्ट: IM सहसंस्थापक यासीन भटकल समेत 5 आतंकियों को सज़ा-ए-मौत

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 February 2017, 5:45 IST
(फाइल फोटो )

एनआईए कोर्ट ने हैदराबाद ब्लास्ट के मामले में इंडियन मुजाहिदीन के सहसंस्थापक यासीन भटकल समेत 5 अभियुक्तों को मौत की सजा सुनाई है. 

फरवरी 2013 में हैदराबाद के दिलसुख नगर में हुए सीरियल ब्लास्ट में करीब 18 लोगों की मौत हो गई थी.  इस मामले में हैदराबाद की विशेष अदालत ने 16 दिसंबर को यासीन भटकल समेत इंडियन मुजाहिदीन के 5 सदस्यों को दोषी करार दिया था.

158 गवाह, 500 दस्तावेज के आधार पर फैसला

तीन साल पहले हुए सीरिल धमाके के इस मामले की जांच एनआईए कर रही थी. पूरे मामले में एनआइए ने 158 गवाह, 201  साक्ष्य और 500 से ज्यादा दस्तावेज अदालत के समक्ष पेश किये.

इस मामले में इंडियन मुजाहिदीन के को-फाउंडर यासीन भटकल, पाकिस्तानी नागरिक जिया उर रहमान उर्फ वकास, असदुल्लाह अख्तर उर्फ हड्डी, तहसीन अख्तर उर्फ मोनू, एज़ाज़ शेख और रियाज़ भटकल पर केस दर्ज किया गया था, जो फिलहाल हैदराबाद की चेरापल्ली जेल में बंद हैं. एनआईए के अनुसार रियाज भटकल अभी भी फरार है.

21 फरवरी 2013 को हुए थे धमाके

आंध्र प्रदेश की राजधानी हैदराबाद के भीड़-भाड़ वाले इलाके दिलसुखनगर में 21 फरवरी, 2013 को हुए दो भीषण बम धमाकों में कम से कम 18 लोग मारे गए थे, जबकि 131 से ज्यादा घायल हुए थे. 

इस घटना के छह महीने के बाद यासीन भटकल और असदुल्ला अख्तर को बिहार में नेपाल सीमा के पास से गिरफ्तार किया गया था. भटकल किसी आतंकी हमले के मामले में सजा पाने वाला आईएम का पहला सदस्य है.

कौन है यासीन भटकल?

सुरक्षा एजेंसी

यासीन भटकल कर्नाटक के उडुपी जिले के भटकल का रहने वाला है. उसे मोहम्मद अहमद सिद्दीबप्पा के नाम से भी जाना जाता है. उसकी पढ़ाई अंजुमन हामी-ए-मुस्लमीन मदरसे में हुई.

12 राज्यों की आतंक निरोधी एजेंसियों की चार्जशीट के मुताबिक भटकल देश भर में जर्मन बेकरी सहित कम से कम 10 आतंकी हमलों में शामिल रहा है. वह दिल्ली के बाजारों में हुए सीरियल ब्लास्ट का भी मास्टरमाइंड था. 

भटकल मुंबई लोकल के अलावा बैंगलोर, जयपुर और वाराणसी सीरियल ब्लास्ट के साथ ही सूरत में हुए बम धमाकों का भी आरोपी है. एनआईए ने यासीन पर 10 लाख रुपये का इनाम घोषित किया था. 13 मई 2008 को जयपुर में हुई सिलसिलेवार धमाकों में भी इंडियन मुजाहिदीन के मॉड्यूल का खुलासा हुआ था.

First published: 19 December 2016, 9:51 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी