Home » इंडिया » IAS top 82 rank in UPSC from Jaisalmer had a tea stall for his livelihood and studies
 

चाय बेचने वाले को बेटा बना आईएएस, सपना पूरा करने के लिए किया ये काम

कैच ब्यूरो | Updated on: 28 April 2018, 11:28 IST

आईएएस का रिजल्ट हाल ही में जारी हुआ. कई उम्मीदवारों की मेहनत का फल उन्हें सेलेक्शन के रूप में मिला. हर साल की तरह इस साल भी प्रतिभा की कुछ ऐसी मिसाल सामने आयी है जो सभी के लिए एक उदाहरण है. ऐसा ही कर दिखाया है जैसलमेर के देशलदान ने जिन्होंने आईएएस में 82वीं रैंक हासिल की.

देशलदान ने आईएएस में 82वीं रैंक हासिल कर अपने घर-परिवार, समाज और जिले का भी नाम रोशन किया है.चाय बेचने वाले अपने पिता के सपनों को साकार करते हुए देशलदान ने विपरीत परिस्थितियों में अपने मुकाम को हासिल किया. यूपीएससी सिविल सर्विस 2017 के परिणामों में जैसलमेर निवासी देशलदान का चयन हुआ है.उन्होंने 82वीं रैंक हासिल की है. इससे पहले भी उनका चयन आईएफएस में भी हो चुका है.

ये भी पढ़ें- UP Board Result 2018: अब हर कोई देख सकेगा टॉप 10 छात्रों की कॉपियां

देशलदान के पिता कुशलदान चाय की दुकान चलाते हैं. कुशलदान ने कड़ी मेहनत करके अपने बेटे देशलदान की परवरिश की. बचपन से ही देशलदान पढ़ाई में अव्वल था और उसके पिता ने भी हर मौके पर अपने बेटे का सहयोग किया.

चाय की स्टाल लगाने वाले पिता को विश्वास था कि देशलदान उसका नाम रोशन करेगा.शिक्षा को लेकर पिता कुशलदान ने अपने बेटे देशलदान की हर क्षेत्र में मदद की.वहीं आज उसके बेटे ने भी उनकी उम्मीदों पर खरा उतरते हुए पिता का नाम रोशन कर दिया है. देशलदान की पढ़ाई के दौरान उसके पिता ने ब्याज पर पैसे लेकर भी उसकी शिक्षा को लगातार जारी रखा. वही बेटे ने अपनी मेहनत से पिता के सपने को पूरा कर दिखाया.

First published: 28 April 2018, 11:28 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी