Home » इंडिया » Ib minister Smriti Irani back his guideline for fake news running on media after pm modi interfere on this matter
 

फ़ेक न्यूज़: पीएम मोदी ने पलटा स्मृति ईरानी का फैसला, गाइडलाइंस वापस लेने को दिया आदेश

कैच ब्यूरो | Updated on: 3 April 2018, 13:36 IST

पीएम मोदी के दखल के बाद सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने फेक न्यूज को लेकर अपना फैसला पलट दिया है. मीडिया रिपोट्स के मुताबिक सूचना प्रसारण मंत्रालय ने फेक न्यूज को लेकर जो गाइडलाइन मीडिया के लिए जारी की थी, वो अब वापस ले ली गई हैं. 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सूचना प्रसारण मंत्रालय से सोमवार को इस मामले में जारी की गई प्रेस रिलीज़ को वापिस लेने को कहा है. उन्होंने मंत्रालय को ये भी निर्देश दिया है कि इस मामले की सुनवाई सिर्फ प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया ही करेगा. इस खबर के सामने के आमने के बाद कई पत्रकारों और विपक्षी पार्टियों ने इस गाइडलाइन की निंदा की थी. 

सूचना प्रसारण मंत्रालय द्वारा सोमवार शाम जारी एक प्रेस विज्ञप्ति में यह कहा गया है कि प्रेस कॉउंसिल ऑफ इंडिया, न्यूज़ ब्रॉडकास्टर्स एसोसिएशन (एनबीए), प्रिंट और टेलीविजन मीडिया के लिए दो नियामक निकाय यह तय करेंगे कि खबर फेक है या नहीं.  इसमें कहा गया है कि यदि कोई पत्रकार फेक न्यूज़ या उसका प्रचार करते पाया जाता है, तो पत्रकार की मान्यता रद्द की जाएगी.

हालांकि मंगलवार को विवाद बढ़ने के बाद स्मृति ईरानी ने मंगलवार को ट्ववीट किया, " जब से ये मुद्दा चर्चा में आया है, तभी से कई पत्रकारों और मीडिया समूह ने उन्हें कई तरह के सुझाव दिए हैं. अगर कोई पत्रकार/मीडिया समूह इस मुद्दे पर सलाह देना चाहता है तो वह दे सकता है."

इस खबर के सामने आने के बाद पत्रकार सुहासिनी हैदर ने ट्विटर पर लिखा कि ' सरकार के आज के आदेश के मुताबिक सजा सिर्फ उन्हें मिलेगी जो मान्यता प्राप्त हैं. उन्हें सिर्फ शिकायत के आधार पर ही दंड दे दिया जाएगा, अंतिम निर्णय की प्रतीक्षा नहीं की जाएगी. मुझे नहीं लगता कि यह उचित है''.

ये भी पढ़ें- मोदी सरकार का फरमान-फेक न्यूज़ देने वाले पत्रकारों की मान्यता होगी रद्द, विरोध शुरू

First published: 3 April 2018, 13:28 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी