Home » इंडिया » Icici terminated chanda Kochhar, srikrishna enquiry report found Guilty
 

चंदा कोचर को बड़ा झटका, जांच समिति ने बताया दोषी, अब ICICI वसूलेगा सारे इन्क्रीमेंट और बोनस

कैच ब्यूरो | Updated on: 31 January 2019, 7:42 IST

ICICI बैंक की पूर्व सीईओ चंदा कोचर की परेशानियां घटने की बजाय बढ़ती जा रही हैं. चंदा कोचर पर लगे आरोपों की जांच कर रही कमेटी की रिपोर्ट ने उन्हें बैंक आचार संहिता का उल्लंघन करने का दोषी बताया है. जस्टिस बी.एन. श्रीकृष्णा समिति ने जांच में पाया है कि वीडियोकोन को कर्ज देने के मामले में कोचर ने बैंक की आचार संहिता का उल्लंघन किया है. जांच में सामने आया है कि वीडियोकॉन को दिए जाने वाले कर्ज का कुछ हिस्सा कोचर के पति दीपक की कंपनी को दिया गया.

जांच रिपोर्ट आने के बाद बैंक के बोर्ड ऑफ़ डायरेक्टर्स ने ये फैसला किया है कि चंदा कोचर के बैंक से अलग होने को 'Termination for Cause' माना जाएगा. मतलब कि अब ये माना जाएगा कि चन्दा कोचर को किसी वजह से नौकरी से निकाला गया है. इसके बाद से अब चन्दा कोचर को मौजूदा समय में बैंक की तरफ से मिलने वाले सभी फ़ायदे बंद कर दिए जाएंगे. इसमें बोनस, इनक्रीमेंट, स्टॉक ऑप्शन के साथ मेडिकल बेनेफिट भी शामिल हैं. इतना ही नहीं बैंक ने ये भी फैसला किया है कि अप्रैल 2009 से मार्च 2018 तक बैंक की तरफ से चंदा कोचर को जो भी बोनस दिए गए थे उन्हें वापस वसूला जाएगा.

गौरतलब है कि जस्टिस बी.एन. श्रीकृष्णा कमेटी की जांच रिपोर्ट में कहा गया है कि चन्दा कोचर ने ईमानदारी से बैंक को दिए गए सालाना घोषणाएं यानी annual disclosures को नहीं बताया.

ICICI: चंदा कोचर के खिलाफ FIR दर्ज करने वाले CBI अफसर का तबादला, जेटली ने दी थी ये नसीहत

बैंक के इस फैसले पर चंदा कोचर ने कहा, ''मैंने पिछले 34 साल में कठिन मेहनत और समर्पण के साथ आईसीआईसीआई की सेवा की है. संगठन के हित में कभी जरूरत पड़ी तो कड़े फैसले लेने में कभी नहीं हिचकी. बैंक के इस फैसले ने काफी दुख दिया है. मैंने ईमानदारी और गरिमा के साथ एक स्वतंत्र पेशेवर के तौर पर अपना करियर शुरू किया. मुझे अपने पेशे में पूर्ण विश्वास है और भरोसा है कि एक न एक दिन सच की जीत होगी.''

First published: 31 January 2019, 7:42 IST
 
अगली कहानी