Home » इंडिया » If you're anti-national, so are we: JNU students write to Kanhaiya, Umar & Anirban
 

जेएनयू विवाद: 'अगर कन्हैया देशद्रोही है तो हम सब देशद्रोही हैं'

कैच ब्यूरो | Updated on: 28 February 2016, 22:25 IST

जवाहरलाल नेहरु युनिवर्सिटी (जेएनयू) के छात्र और शिक्षक जेएनयू छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार की गिरफ्तारी के बाद से लगातार गिरफ्तारी के विरोध में अभियान चला रहे हैं. कन्हैया को 12 फरवरी को गिरफ्तार किया गया था.

जेएनयू के छात्र और शिक्षक बेहद रचनात्मक तरीके से छात्रों की गिरफ्तारी पर असहमति दर्ज करा रहे हैं. कभी मानव श्रृंखला बनाकर तो कभी कैंपस में राष्ट्रवाद पर चर्चा आयोजित करके.

'वॉल ऑफ शेम'

इस बार छात्रों ने जेएनयू के रजिस्ट्रार भूपिंदर जुत्शी के विरोध में अनोखा अभियान शुरू किया है. शुक्रवार को छात्रों ने कैंपस में 'वॉल ऑफ शेम' बनाई. इस पर छात्रों ने पोस्टकार्ड पर अपनी बातें लिखकर चिपकाईं.

जेएनयू विवाद: 'जिस भारत के लिए करियर दांव पर लगाया है उसे कैसे बर्बाद कर सकता हूं?'

छात्रों ने पोस्टकार्ड के जरिए रजिस्ट्रार की बर्खास्तगी की मांग की और प्रशासन के रवैये पर सवाल उठाए. जेएनयू में हुई पुलिसिया कार्रवाई के लिए कई छात्र जुत्शी को जिम्मेदार मान रहे हैं.

jhosh-embed1-img-20160226-wa0021.jpg
jhosh-embed2-img-20160226-wa0018.jpg
jhosh-embed3-img-20160226-wa0017.jpg
jhosh-embed4-img-20160226-wa0016.jpg

उनमें से एक ने लिखा है, 'सुनो प्रिय, अगर आपको लगता है कि आपने छात्रों का जीवन जोखिम में डालकर खुदकर को सुरक्षित कर लिया है तो यह गलत है. जब समय आएगा तो आपको भी नहीं बख्शा जाएगा. फिलहाल अच्छी नींद का आनंद लीजिए.' पत्र के आखिर में दिल का चिह्न बनाया हुआ था.

पढ़ें: दुनिया के 455 विश्वविद्यालयों के विद्वान उतरे जेएनयू के समर्थन में

एक अन्य पत्र में जुत्शी को विशिष्ट रुप से जेएनयू के शब्दावली धिक्कारा गया है. 'भूपिंदर जुत्शी असमानता, सामंतवाद, ब्राह्मणवाद, पूंजीवाद, पितृसत्तात्मक सत्ता के प्रतीक हैं!'

jhosh-embed4-img-20160226-wa0016.jpg

कैच न्यूज

'टू द जेल्ड विद लव'

जुत्शी की खिल्ली उड़ाने के अलावा छात्रों ने राजद्रोह के आरोप में जेल में बंद कन्हैया कुमार, उमर खालिद, अर्निबान भट्टाचार्य के समर्थन में 'टू द जेल्ड विद लव' के नाम से पोस्टकार्ड लगाए.

jhosh-embed5.jpg

एक पत्र में लिखा है, ' मुश्किल भरे हालात में झूठ का बोलबाला है. जल्द ही हमें सही और गलत के बीच चुनने में आसानी होगी. आपके दोस्त यहां है.'

पढ़ें: स्मृति ईरानी को एक अनाम नौकरशाह का पत्र

जेएनयू की विविधता पोस्टकार्ड के जरिए भी सामने आई हैं. कई पत्र हिंदी और अंग्रेजी के अलावा उर्दू, बंगाली, मलयालम और तमिल में भी लिखे गए हैं.

एक अन्य पत्र में लिखा गया है, 'अगर राज्य की शर्तों पर आप राष्ट्रविरोधी हैं तो हम सब राष्ट्रविरोधी हैं.'

embed6-augrpqxxuiy2ocqkabe2gdnvlkmo-guo7tjvslqmu-6o.jpg
embed7-7f809e86-8aac-43e5-b728-8718f9d11229--1-.jpg
embed8-4dc63037-71b0-4ee9-9185-6d6adc77c74b.jpg

एक छात्र ने विशेष रुप से उमर खालिद के लिए लिखा है, 'डियर उमर भैया, हमेशा मुस्कुराते रहिए और गले में शॉल डालिए. यह आपको सूट करता है. हमलोग आपके साथ हैं.'

First published: 28 February 2016, 22:25 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी