Home » इंडिया » IIT Bombay revealed there is plastic in salt in many big brands
 

सावधान: कहीं आप भी तो नहीं खा रहे नमक के साथ प्लास्टिक !

कैच ब्यूरो | Updated on: 4 September 2018, 8:48 IST

देश के कई बड़े ब्रांड के बिकने वाले नमक में प्लास्टिक पाया गया है. IIT बॉम्बे की एक रिसर्च से ये खुलासा हुआ है. मइक्रोप्लास्टिक प्लास्टिक के बहुत ही छोटे कण होते हैं. पांच मिलीमीटर से भी कम साइज के इन कणों को नमक में मिला हुआ देख पाना लगभग असंभव है. लेकिन रिसर्च में ये खुलासा हुआ है कि हमारे आपके नमक में प्लास्टिक होने की संभावना बहुत ज्यादा है.

आईआईटी-बंबई के सेंटर फॉर इनवायर्नमेंट साइंस एंड इंजीनियरिंग की एक टीम ने कुछ नमूनों की जाँच की जिसमे माइक्रो-प्लास्टिक के 626 कण पाये गए हैं. नमक के साथ मिले इन कणों में 63 प्रतिशत कण बहुत ही छोटी छोटे टुकड़ों में पाए गए हैं. जबकि बाकी के 37 प्रतिशत कण फाइबर के रूप में पाए गए.

ये भी पढ़ें- कम उम्र की लड़कियों को एडल्ट बनाने वाले इंजेक्शन की बिक्री पर दिल्ली हाईकोर्ट ने लगाई रोक

इस रिसर्च के नतीजों की मने तो हर एक किलो नमक में 63.76 माइक्रोग्राम माइक्रोप्लास्टिक पाये गए हैं. इससे ये अनुमान लगाया गया कि अगर कोई व्यक्ति प्रति दिन पांच ग्राम नमक लेता है तो एक साल में एक भारतीय 117 माइ्क्रोग्राम नमक का सेवन करता है.

‘कांटिमिनेशन ऑफ इंडियन सी साल्ट्स विथ माइक्रोप्लास्टिक्स एंड अ पोटेंशियल प्रिवेंशन स्ट्रेटजी’ शीर्षक अध्ययन को अमृतांशु श्रीवास्तव और चंदन कृष्ण सेठ ने संयुक्त रूप से लिखा है. इसका प्रकाशन ‘इन्वार्यन्मेंटल साइंस एंड पॉलूशन रिसर्च’ जर्नल में 25 अगस्त को हुआ.

आप भी लगाते हैं नारियल तेल तो हो जाएं सावधान, जहर की तरह है जानलेवा !
नमक में से इस प्लास्टिक को ख़त्म करने के लिए प्रोफेसर श्रीवास्तव ने दावा किया कि अगर साधारण नमक से निष्पंदन तकनीक के जरिये 85 प्रतिशत माइक्रो-प्लास्टिक को खत्म किया जा सकता है.

First published: 4 September 2018, 8:48 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी