Home » इंडिया » in aligarh hindu people are in feir
 

अलीगढ़: 27 हिंदू परिवारों ने घर की बिक्री के लिए प्रशासन को किया आवेदन

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 February 2017, 1:48 IST
(पीटीआई)

उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में 27 हिंदू परिवारों ने शुक्रवार को जिला प्रशासन को आवेदन देकर कहा है कि उनके घरों को खरीद लिया जाए.

यह सभी हिंदू परिवार शहर के बाबरी मंडी इलाके में रहते हैं. खबरों के मुताबिक हिंदू परिवारों ने प्रशासन को दिए अपने आवेदन में कहा है कि वे वहां पर सुरक्षित नहीं हैं और अपना घर बेचकर वहां से जाना चाहते हैं. सभी परिवारों ने अपने घर के बाहर ‘यह मकान बिकाऊ है’ का बोर्ड भी लगा दिया है.

लड़की से छेड़खानी का आरोप

जानकारी के मुताबिक बीते बुधवार की रात कथित रूप से वहां दो समुदायों के बीच छेड़खानी को लेकर विवाद हुआ था. हिंदू समुदाय का आरोप है कि 19 साल की एक हिंदू लड़की के साथ समुदाय विशेष के लोगों ने छेड़खानी की. लड़की ने इस संबंध में पुलिस में केस भी दर्ज कराया था.

शिकायत में लड़की का आरोप है कि जिस वक्त वह घर वापस आ रही थी, तभी कुछ लड़कों ने उसके साथ न सिर्फ छेड़खानी की, बल्कि उसे घसीटकर सुनसान इलाके में ले जाने की कोशिश की.

लड़की के चिल्लाने पर आसपास के क्षेत्रीय लोग जमा हो गए, जिसके बाद दोनों पक्षों में संघर्ष शुरू हो गया. आरोप है कि इस दौरान कुछ अज्ञात लोगों ने हवा में गोलियां भी चलाईं.

एक आरोपी गिरफ्तार

इस मामले मेें पुलिस ने चार लड़कों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है. जिनके नाम नदीम, सुहेल, इस्माइल और दानिश बताए जा रहे हैं. पुलिस ने चारों आरोपियों में से नदीम को गिरफ्तार कर लिया है, जबकि बाकी आरोपी फरार हैं.

इस मामले में जिले मजिस्ट्रेट अवधेश तिवारी ने बताया, "समुदाय विशेष के कुछ लोग मेरे पास आए और उन्होंने प्रशासन से उनका घर खदीदने की बात कही. उन्होंने एफिडेविट भी जमा करवाए हैं. वे लोग काफी डरे हुए लग रहे थे. हम उनकी पूरी मदद करने की कोशिश कर रहे हैं."

बीजेपी का विरोध प्रदर्शन

वहीं दूसरी ओर बीजेपी और कुछ हिंदू संगठनों ने इस मामले में कार्रवाई की मांग को लेकर पुलिस स्टेशन के बाहर धरना दिया है.

इस मामले में अलीगढ़ की मेयर शकुंतला भारती ने कहा, "हमारी महिलाएं सड़क पर निकल नहीं सकती. जब तक सारे आरोपी पकड़े नहीं जाते हम लोग प्रदर्शन जारी रखेंगे."

बाबरी मंडी के रहने वाले मनीष ने बताया, "ऐसा पहली बार नहीं हुआ है. यहां रहना सुरक्षित नहीं है. इससे अच्छा है कि हम यह जगह छोड़कर कहीं और रहें."

First published: 23 July 2016, 12:37 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी