Home » इंडिया » in america 25 Indian students asked to leave US university
 

अमेरिकी यूनीवर्सिटी ने 25 भारतीय छात्रों को निकाला

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 June 2016, 14:27 IST
(एजेंसी )

अमेरिका के वेस्टर्न केन्टकी यूनीवर्सिटी में पढ़ रहे 60 भारतीय छात्रों में से 25 को विश्वविद्यालय प्रशासन ने निकालने का फरमान सुनाया है. ये सभी छात्र कंप्यूटर साइंस की पढ़ाई कर रहे थे. 

यूनीवर्सिटी प्रशासन के मुताबिक निकाले गए 25 भारतीय छात्रों को कंप्यूटर प्रोग्रामिंग की सामान्य जानकारी भी नहीं थी. निकाले गए छात्रों के पास अब दो ही विकल्प बचे हैं. पहला या तो ये छात्र भारत वापस लौट आएं या फिर अमेरिका की किसी दूसरी यूनीवर्सिटी में दाखिला लें.

यूनीवर्सिटी के कंप्यूटर साइंस पाठ्यक्रम के चेयरमैन जेम्स गैरी ने बताया, "पहले सेमेस्टर के कुल 40 छात्रों में से, जिनमें 25 भारतीय छात्र हैं. ये कोर्स में प्रवेश के लिए जरूरी मानदंडों पर खरे नहीं उतरे हैं.

लिहाजा हम उन्हें कोर्स में आगे पढ़ने की इजाजत नहीं दे रहे हैं. लेकिन इसके साथ ही हम इन छात्रों को दूसरे संस्थानों में प्रवेश लेने में उनकी मदद कर रहे हैं."

कंप्यूटर प्रोग्रामिंग से अनजान

गैरी ने कहा कि निकाले गए छात्र कंप्यूटर प्रोग्राम के बारे में कुछ भी नहीं लिख पाए, जबकि यह उनके कोर्स का अहम हिस्सा है. यूनीवर्सिटी का यह भी कहना है कि भविष्य में भारत में भर्ती अभियान के दौरान कंप्यूटर साइंस के सदस्यों को भी ले जाया जाएगा, ताकि इस तरह की गड़बड़ न हो.

हालांकि संस्थान में भारतीय छात्र संघ के चेयरमैन आदित्य शर्मा ने निकाले गए छात्रों के भविष्य को लेकर अपनी चिंता भी जाहिर की है, लेकिन इसके साथ ही उन्होंने यह भी माना कि कुछ भारतीय छात्रों ने पढ़ाई को गंभीरता से नहीं लिया था.

पिछले साल गर्मियों में अंतरराष्ट्रीय एजेंसियों की मदद से वेस्टर्न केन्टकी यूनीवर्सिटी ने भारत समेत कई देशों में भर्ती अभियान शुरू करके 60 भारतीय छात्रों को चयनित किया था. दाखिले के समय इन छात्रों को यूनीवर्सिटी की ओर से फीस में छूट जैसे कई प्रलोभन भी दिए गए थे.

First published: 8 June 2016, 14:27 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी