Home » इंडिया » In five months, Railways removes all unmanned crossings on major routes
 

कुशीनगर हादसे के बाद रेलवे ने हटा दिए अपने सभी मानवरहित क्रासिंग

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 September 2018, 10:36 IST

इस साल अप्रैल में उत्तर प्रदेश के कुशीनगर के पास एक मानव रहित रेलवे क्रॉसिंग पर ट्रेन से स्कूल वैन हादसे में 13 स्कूली बच्चों की मौत हो गई थी. इस घटना के पांच महीने बाद भारतीय रेलवे ने देशभर के प्रमुख मार्गों में सभी स्तरों पर क्रासिंग को हटा दिया है.

कुशीनगर दुर्घटना के बाद रेल मंत्री पीयूष गोयल और रेलवे बोर्ड ने इस साल सितंबर तक सभी मानव रहित स्तर क्रॉसिंग को खत्म करने के लिए कहा था. रिकॉर्ड के अनुसार इस महीने के अंत तक केवल 600 मानव रहित स्तर क्रॉसिंग हटाए जाएंगे.

संयोग से सभी मार्ग जहां ट्रेनों की प्रति घंटे 130 किमी तक की स्वीकार्य गति है, अब मानव रहित स्तर क्रॉसिंग से मुक्त हैं. इन स्थानों पर वाहनों के लिए सब-वे बनाने का काम चल रहा है. इस साल अप्रैल में भारतीय रेलवे नेटवर्क में 3,470 मानव रहित स्तर क्रॉसिंग थे.

उनमें से अधिकतर कम ट्रैफिक लाइनों में थे और जहां ट्रेनों को अधिकतम गति की अनुमति दी जाती थी. उनमें से 1,300 अब हटा दिया गया है.

वर्तमान अभियान के तहत गुवाहाटी स्थित पूर्वोत्तर फ्रंटियर रेलवे मानव रहित, पूर्वी, मध्य पूर्व मध्य और पश्चिम मध्य जैसे अन्य लोगों से जुड़ने के लिए मानव रहित स्तर क्रॉसिंग से पूरी तरह से मुक्त हो गए है.

उत्तर रेलवे के अनुसार, इस काम को बहुत तेजी से किया जा रहा है और इन गेटों पर तैनात करने के लिए करीब 400 पूर्व सैनिको की भर्ती की जानी है. 

ये भी पढ़ें : पीएम मोदी की इस योजना से 20 लाख लोगों को मिला डबल फायदा, आप भी उठायें लाभ

First published: 17 September 2018, 9:28 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी