Home » इंडिया » in gujrat: patidars call gujrat band on monday
 

गुजरात: पाटीदार आंदोलन की आग फिर भड़की, मेहसाणा में हिंसा के बाद कर्फ्यू

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 April 2016, 19:11 IST

गुजरात में पटेलों के आरक्षण की मांग को लेकर चल रहा पाटीदार आंदोलन रविवार को हिंसक हो उठा.

पटेल समुदाय के लोगों ने आज अपने युवा नेता हार्दिक पटेल की गिरफ्तारी के खिलाफ पूरे गुजरात में जेल भरो आंदोलन की घोषणा की थी.

इसी दौरान पाटीदार समुदाय के हजारों लोग महेसाणा पहुंचे. वहीं, पटेलों की उग्र भीड़ ने पथराव किया जिसके बाद पुलिस को बल प्रयोग करना पड़ा.

इसमें सरदार पटेल ग्रुप (एसपीजी) के अध्यक्ष लालजी पटेल जख्मी हो गए हैं. इसके बाद भीड़ और बेकाबू हो गई और देखते ही देखते मेहसाणा शहर के सारे बाजारों के शटर गिर गए.

patidar

लालजी पटेल, हार्दिक पटेल की गिरफ्तारी के बाद से इस आंदोलन का नेतृत्व कर रहे हैं. इसके बाद आंदोलन कर रहे 435 पाटीदारों को हिरासत में लिया गया है.

हिंसक घटनाओं को देखते हुए मेहसाणा में आसपास के जिलों से भी पुलिस बल भेजे गए हैं. जिला प्रशासन ने शहर में हिंसा और उपद्रव के मद्देनजर कर्फ्यू लगाते हुए मोबाइल-इंटरनेट की सेवाओं को भी तत्काल प्रभाव से बंद कर दिया है.

आंदोलनकारियों ने महसाणा के डीएम की गाड़ी को भी आग के हवाले कर दिया.

इस मामले में मेहसाणा के जिलाधिकारी लोचन सेहरा ने कहा कि, 'पुलिस ने हिंसा पर उतारू भीड़ को काबू में करने के लिए लाठीचार्ज किया है. अराजकता और अव्यवस्था को देखते हुए हमने धारा 144 लगा दी है और इलाके में मोबाइल इंटरनेट पर भी रोक लगा दी है'.

पाटीदार समाज की यह पूरी कवायद पाटीदार आंदोलन के नेता हार्दिक पटेल को रिहा किये जाने की मांग को लेकर है, जो पिछले साल अक्तूबर से ही सूरत में लाजपोर जेल में बंद हैं.

वहीं, मेहसाणा सहित प्रदेश के कई क्षेत्रों में हिंसा के बाद मुख्यमंत्री आनंदीबेन पटेल ने कहा कि ऐसे आंदोलन तो होते रहते हैं. सरकार का काम विकास कार्यों के जरिए जनता की सेवा करना है. हम उसी पर फोकस कर रहे हैं.

दूसरी तरफ पाटीदार समाज के नेताओं ने सोमवार को गुजरात बंद का ऐलान किया है. इसके साथ ही आंदोलनकारियों ने सरकार से हिरासत में लिए गए पाटीदार युवाओं को तुरंत छोड़ने की मांग की है.

इस हिंसक घटना के बाद पुलिस ने अहमदाबाद के केके नगर चौराहे और वस्त्राल चौराहे पर सुरक्षा को चौकस कर दिया है. यह इलाके पाटीदार बहुल माने जाते हैं.

इसके अलावा सूरत में भी कई जगहों पर धारा 144 लागू कर दी गई है. इस मामले में पुलिस कमिश्नर आशीष भाटिया ने कहा कि राज्य की शांति भंग करने वालों से हम सख्ती से निपटेंगे.

इसके पहले गुजरात के गृह मंत्री रजनी पटेल के मेहसाणा ऑफिस में तोड़फोड़ की गई और तीन बाइकों को आग के हवाले कर दिया गया. वहीं, स्वास्थ्य मंत्री नितिन पटेल कि ऑफिस पर भी पथराव की सूचना है.

जानकारी के मुताबिक रविवार को हुई हिंसा के पीछे पाटीदार आंदोलन करने वाले हार्दिक पटेल के समर्थकों का हाथ माना जा रहा है. वे लोग हार्दिक की रिहाई की मांग कर रहे हैं.

First published: 17 April 2016, 19:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी